हमारी विरासत : ऐतिहासिक जूनाखेड़ा की खुदाई में और मिले पुरा वैभव के अवशेष

- पाली जिले के नाडोल के जूनाखेड़ा में गहराई पर की जा रही खुदाई
- प्राचीन सभ्यता के कई अवशेष और मिले

By: Suresh Hemnani

Published: 03 Apr 2021, 03:23 PM IST

पाली/नाडोल। पाली जिले के नाडोल कस्बे में भारमल नदी के किनारे 8 फ रवरी से शुरू हुई ऐतिहासिक जूना खेड़ा प्राचीन स्थल के उत्खनन के दौरान खुदाई गहराई की ओर जा रही है। वहां पर कई पुरा अवशेष मिले हैं। पुरातत्व टीम प्राचीन अवशेषों के इतिहास की जानकारी जुटाने में लगी है। इन सभी पुराअवशेषों को रासायनिक प्रयोगशाला निदेशालय जयपुर में परीक्षण के लिए भेजा जाएगा। प्रयोगशाला में परीक्षण के बाद इन अवशेषों के बारे में जानकारी जुटाई जाएगी।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग दिल्ली से स्वीकृति मिलने के बाद ही पुन: पुरातत्व संग्रहालय विभाग की ओर से जूनाखेड़ा में डॉ. विनीत गोधल के नेतृत्व में कार्य शुरू हुआ। वरिष्ठ प्रारूपकार रजनीकांत वर्मा ने बताया कि विभागीय उपनिदेशक के. कृष्णकांता शर्मा का 6 अप्रेल को क्षेत्र में संभावित दौरा हो सकता है। वे क्षेत्र में पुरातत्व के खोज की जानकारी व कार्य का निरीक्षण करेंगी।

उत्खनन के दौरान मिले पुरावशेष
जूना खेड़ा की खुदाई में सॉफ्ट स्टोन मटेरियल की 4 इंच बाई 6 इंच की विष्णु भगवान की खंडित मूर्ति मिली है। इसके अलावा मिट्टी से बने मृदभांड, चूडिय़ों के टुकड़े, कौडिय़ां, मणके मिले हैं। जिससे यह साबित होता है कि इस सभ्यता में कुछ तो घटना घटित हुई है। उत्खनन टीम को खुदाई के दौरान पत्थर से निर्मित सिला, लोहे के ठोस टुकड़े, मिट्टी से बने हुए कई बर्तन आदि मिले हैं।

पोटरी यार्ड में पुरावशेष
जूनाखेड़ा की खुदाई में मिले अवशेषों को पोटरी यार्ड में रखा जाता है। जिससे उनके बारे में जानकारी प्राप्त हो सके। पुराविद दावा कर रहे हैं कि जूना खेड़ा पंद्रह सौ साल पहले से बसा हुआ था। इसको लेकर पुराविदों द्वारा लगातार अवशेषों पर अध्ययन किया जा रहा है। जूनाखेड़ा इतिहास के रूप में बड़ा ही महत्वपूर्ण स्थान हो सकता है। इसकी खुदाई होने के बाद यह नाडोल के इतिहास के बारे में विस्तृत जानकारी मिल सकती है। इतना ही नहीं जूनाखेड़ा की खुदाई से चौहान शासकों और राज्य की विस्तृत जानकारी मिल सकती है। सुनील सांखला, जगदीशचंद्र रूल, गुलशन कुमार, मानाराम सीरवी, रतनसिंह बेड़ा सहित स्थानीय मजदूर उत्खनन कार्य में लगे हुए हैं।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned