राजस्थान के इस जिले के 1017 गांवों में अब बहेगी ‘गंगा’

-जवाई पुनर्भरण के लिए सीडब्ल्यूसी में पेश की रिपोर्ट
-सिंचाई विभाग ने 2051 तक का प्लान किया है पेश

By: Suresh Hemnani

Published: 27 Jul 2020, 08:15 AM IST

पाली। पश्चिमी राजस्थान के मरुसागर के पानी पर निर्भरता लगातार बढऩे के साथ उसके पुनर्भरण की कवायद भी शुरू की गई। सर्वे के बाद अब केन्द्रीय जल आयोग [ Central Water Commission ] (सीडब्ल्यूसी) को पाली के सिंचाई विभाग [ Irrigation Department ] की ओर से वर्ष 2051 की जनसंख्या के लिए आवश्यक जल की मात्रा बताई गई है। इसके अनुसार पाली जिले के 1017 गांवों व 12 शहरों के लिए 5400 एमसीफटी पानी एक वर्ष के लिए उपयोग में लिया जा सकेगा। वहीं सिरोही जिले के शिवगंज शहर के लिए 1000 एमसीफटी पानी की जरूरत होगी। यह पूर्ति जवाई बांध [ Jawai Dam ] के पुनर्भरण के लिए बनने वाले तीन बांधों वांकल, सेई [ Sei Dam ] व साबरमती [ Sabarmati Dam ] से की जाएगी। जिनमें पानी आने पर उसे जवाई बांध में लाया जाएगा।

इतनी होगी बांध की क्षमता
कच्छ की ओर व्यर्थ बहकर जाने वाले पानी को रोककर जवाई में लाने के लिए बनने वाले वांकल बांध की क्षमता 240 एमक्यूएम होगी। इसमें से 10 एमक्यूएम पानी लाइव स्टोरेज में रहेगा। इसी तरह 75 एमक्यूएम क्षमता वाले सेई बांध में 60 एमक्यूएम तथा 120 एमक्यूएम क्षमता के साबरमती बांध में 75 एमक्यूएम पानी लाइव स्टोरेज में रहेगा। इन तीनों बांधों में 15 हजार एमसीएफटी पानी रहेगा। जो जवाई बांध से लगभग दोगुना है।

40 किमी की टनल प्रस्तावित
जवाई पुनर्भरण के लिए बनने वाले तीन बांधों से पानी को जवाई बांध तक लाया जाएगा। इसके लिए टनल, सुरंग व नदी का उपयोग किया जाएगा। पानी को पहाड़ों से होकर जवाई तक पहुंचाने के लिए अभी तक करीब 25-40 किमी की टनल बनाना प्रस्तावित है। वैसे अभी भी उदयपुर जिले में बने जवाई के सहायक बांध सेई से पानी को टनल के माध्यम से जवाई नदी में लाया जाता है। जहां से वह बांध तक आता है।

पेश किया था प्लान
जवाई पुनर्भरण के लिए सीडब्ल्यूसी की ओर से मांगी जानकारी के अनुसार वर्ष 2051 की जनसंख्या के उपयोग के लिए आवश्यक पानी की मात्रा बताई थी। जो बांध बनाए जा रहे है। उनमें कच्छ की ओर से व्यर्थ बहकर जाने वाली पानी को सहेजा जाएगा। -मनीष परिहार, अधीक्षण अभियंता, सिंचाई विभाग, पाली

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned