नरसिंग जयंती के अवसर पर सोमनाथ मंरि के बाहर मलूका मेले का आयोजन किया गया। इस अवसर पर परम्परानुसार हिरणकश्यप का स्वांग रचकर मलूका बाहर निकला। बाद में रास्ते में जो भी आया उसे मलूके ने सोटे बरसाए। बाद में सूर्यास्त के समय नरसिंग अवतार द्वारा वध करने पर जनता के कष्ट दूर हो जाते है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned