अच्छी पहल : कोरोना महामारी को भांप स्थगित की पुत्र-पुत्री की शादी, समाज ने सराहा

- पाली जिले के जैतारण क्षेत्र के आनन्दपुरकालू के बाबूलाल टांक ने पेश की मिसाल
- एक भी पॉजिटिव के शिरकत करने हो सकता है सबको खतरा

By: Suresh Hemnani

Published: 06 May 2021, 04:09 PM IST

पाली/जैतारण/बांझाकुड़ी। करीब एक वर्ष से अपने पुत्र व पुत्री की शादियों की तैयारी में जुटे आनंदपुरकालू में एक परिवार ने कोरोना महामारी के कारण शादियां स्थगित करने का निर्णय किया है। हालांकि इस निर्णय से उन्हें काफी नुकसान भी उठाना पड़ रहा है। यह निर्णय उनके समाज व परिवार के लिए सकारात्मक निर्णय माना जा सकता है। कोरोनाकाल में सरकार ने शादी में संभागियों की संख्या 31 निर्धारित की है।

आनंपुरकालु उप सरपंच बाबूलाल टाक ने बताया कि उनके पुत्र सुनील टाक की शादी 30 अप्रेल व पुत्री पूजा की शादी 2 मई को जैतारण सिखवाल भवन में प्रस्तावित थी। शादी के लिए भवन, घोड़ी, बैंड, फोटोग्राफर, हलवाई, लाइट डेकोरेशन आदि की बुकिंग करवा रखी थी।

छप गए थे शादी के कार्ड
शादी के निमंत्रण पत्र भी छप गए थे, लेकिन कोरोना के कारण शादियों को स्थगित कर दिया। कार्ड भी वितरित नहीं किए। कोरोना की भयावहता को देखते हुए परिवारजनों की सहमति से यह निर्णय किया है।

प्रशासन ने समझाइश की तो निरस्त किया प्रीतिभोज
रायपुर मारवाड़। उपखंड के सबलपुरा ग्राम में बेरा राकी निवासी घेवरराम सीरवी ने अपने पुत्र के विवाह के उपलक्ष में रखा प्रीतिभोज प्रशासन की समझाइश पर स्थगित कर दिया। उन्होंने कार्यक्रम की उपखण्ड कार्यालय से आज्ञा भी ले ली थी। कोर कमेटी अध्यक्ष प्रधानाचार्य चेनाराम तंवर, बीएलओ चक्रवर्तीसिंह, विक्रम सिंह ने घेवरराम सिरवी से प्रस्तावित प्रीतिभोज कार्यक्रम को लेकर समझाइश कर आयोजन निरस्त करने की अपील की। इस पर घेवरराम सीरवी ने कोरोना महामारी में प्रशासन का सहयोग करते हुए प्रीतिभोज स्थगित करना स्वीकार कर मिसाल पेश की।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned