स्कूलों में संक्रांति के बाद फिर लौटेगी रौनक

प्रदेश में 18 जनवरी से स्कूल खोलना प्रस्तावित
कक्षा नौ से बारह तक के बच्चे जाएंगे स्कूल

By: Rajeev

Published: 12 Jan 2021, 08:33 AM IST

पाली. कोविड 19 के कारण मार्च से बंद स्कूलों में 18 जनवरी से एक बार फिर रौनक लौटने वाली है। हालांकि कक्षा एक से आठ तक के बच्चे स्कूल नहीं जाएंगे, लेकिन कक्षा नौ से 12 तक के बच्चों को स्कूल बुलाने के लिए निदेशक माध्यमिक शिक्षा राजस्थान बीकानेर की ओर से अभिभावकों की स्वीकृति के बाद अध्यापकों से मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए बच्चों को स्कूल भेजने की स्वीकृति दी है। इसमें निजी व सरकारी स्कूल संचालकों को कोरोना की गाइड लाइन का पूर्ण पालन करना होगा। इसे लेकर सोमवार को जिला कलक्टर व संयुक्त निदेशक शिक्षा मण्डल की उपस्थिति में सभी सीबीइओ को गाइड लाइन की जानकारी दी गई है। अब मंगलवार को सभी सीबीइओ अपने क्षेत्र के पीइइओ को वीसी के माध्यम से गाइड लाइन की जानकारी देंगे। इसके बाद 16 जनवरी को अभिभावकों व शिक्षकों की बैठक में स्कूल खोलने पर चर्चा की जाएगी और व्यवस्थाओं को पूर्ण किया जाएगा। विद्यालय केवल कंटेनमेंट जोन के बाहर के ही खोले जाएंगे।
तैयारी में जुटे

स्कूलों को खोलने के लिए निर्देश मिले है। इसके तहत कोरोना गाइड लाइन का पालन करने और निदेशालय से प्राप्त निर्देशों से सभी अधिकारियों व अध्यापकों को अवगत कराया जा रहा है। अभी 18 जनवरी से कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों को बुलाना प्रस्तावित है।
जगदीशचंद राठौड़, संयुक्त निदेशक, शिक्षा मण्डल, पाली

................................
मुख्य रूप से स्कूल खुलने व उससे पहले यह करना होगा

-स्कूल परिसर व सभी उपकरणों सहित पानी की टंकियों तक को सेनेटाइज
-विद्यालय में हाथ धोने की सुविधा, लक्विड हैड वॉश की सुविधा

-हर कक्षा कक्ष के समक्ष फुट सेनेटाइजर स्टेण्ड
-विद्यालय में मास्क, सोडियम हाइपोक्लोराइड घोल, सेनेटाइजर आदि रखना

-लंच में विद्यार्थी कक्ष में ही भोजन करेंगे, कक्षा अध्यापक भी वहीं लंच करेंगे
-बाल वाहिनी का उपयोग करने से पहले उसे सेनेटाइजर करना होगा

-बरामदों में रखे सामान को हटाना होगा, जिससे शुद्ध हवा आ सके
-बच्चों से संभव हो सके जहां तक घर से बोतल में पानी मंगवाना, संभव नहीं होने पर पानी की व्यवस्था करवाना

-विद्यार्थी व स्टॉफ मास्क लगाकर ही स्कूल आ सकेंगे
-प्रार्थना, सामूहिक खेल व उत्सव नहीं होंगे

-विद्यार्थी पेन, कॉपी आदि एक-दूसरे को नहीं देंगे
-विद्यार्थयों की संख्या कक्षा कक्ष की क्षमता से आधी रखनी होगी

-अवकाश पर रहने वाले विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षण की सुविधा देनी होगी
-मोबाइल रखने वाले विद्यार्थियों व शिक्षकों को आरोग्य सेतू एप डाउनलोड करना होगा

-विद्यालय में विद्यार्थी की उपस्थिति बाध्यकारी नहीं होगी
-बीमार विद्यार्थियों को अवकाश पर रहने के लिए पाबंद करना होगा

Rajeev Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned