Exam tips : विद्युत धारा में तीर की दिशा का रखना चाहिए विशेष ख्याल, पढ़ें पूरी खबर...

पत्रिका कोचिंग : भौतिक विज्ञान [ physics subject ] को ऐसे बनाएं सरल
गेस्ट राइटर : राजेन्द्रकुमार जैन, व्याख्याता, भौतिक विज्ञान, गुंदोज

Suresh Hemnani

February, 1406:13 PM

पाली। भौतिक विज्ञान विषय [ physics subject ] को समझने पर वह काफी सरल है। इस विषय में किरण आरेख के साथ अन्य आरेखों का ध्यान से अध्ययन करना चाहिए। इसमें तीर की दिशा का विशेष ध्यान रखना चाहिए। ऐसा ही विद्युत धारा से जुड़े अध्यायों के प्रश्नों का जवाब लिखते समय भी करना चाहिए। परीक्षा में बेहतर अंक प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को व्युत्पत्तियों व सूत्रों के साथ प्रयोगों की एक सूची बना लेनी चाहिए। इससे परीक्षा में इनको याद रखना व समझना आसान हो जाता है। परीक्षा में अनुप्रयोग उन्मुख और प्रयोगात्मक आधारित प्रश्न बहुत महत्वपूर्ण होते हैं।

इन बातों का रखना चाहिए ध्यान
-सूत्रों और समीकरणों में चर संकेत का उपयोग करना होता है। इसलिए चर क्या है इसका ध्यान रखना चाहिए।
-मुख्य अवधारणाओं को समझने के लिए चित्र बनाएं। कई भौतिकी के सवालों के आरेख या ग्राफ बनाए जा सकते है।
-अध्याय के सारांश के सूत्र याद रखें।
-बुनियादी स्थिरांक जरूर याद रखें।
-आंकिक प्रश्नों का अभ्यास करें। प्रश्न में दिए डेटा के आधार पर एक सूत्र चुनें। सूत्र में डेटा को प्रतिस्थापित करें।
-परीक्षा के दौरान वर्णनात्मक उत्तर को अंकों में लिखने का प्रयास करें और जहां भी संभव हो चित्रण और ग्राफ जरूर दें।
- पांच अंक के प्रश्नों के उत्तर में सिद्धांत, आरेख, कार्यविधि, उपयोग और सीमा का उपयोग जरूर होना चाहिए।
-जो छात्र गणित में कमजोर हैं, उन्हें आधुनिक भौतिकी पढऩे की कोशिश करनी चाहिए। सेमी कंडक्टर अध्याय सबसे महत्वपूर्ण अध्यायों में से एक है। इसके 6 अंक है। परमाणु और नाभिक मिलकर 6 अंक बनाते हैं। अध्यायों के अगले सेट में प्रकाश विद्युत प्रभाव 4 अंकों का होता है। संचार प्रणाली 4 अंक का गठन करती है। इन अध्यायों को
पढकऱ अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं।
-एसी सर्किट में तात्कालिक वोल्टेज को अदिश की तरह जोड़ा जाता है, लेकिन शिखर और आरएमएस वोल्टेज को सदिश की तरह जोड़ा जाता है।
-दर्पण और लैंस के फोकस के लिए व्युत्पन्न, लैंस निर्माता सूत्र व यंग्स डबल स्लिट प्रयोग फोटो इलेक्ट्रिक प्रभाव हाइगन नियम, ब्रूस्टर का कोण सूत्र, इएमआइ और एसी, लेन्ज नियम, एम्पीयर का नियम, गॉस का नियम, स्व प्रेरण, अन्योन्य प्रेरण, एक एम्पीयर की परिभाषा, वाट हीन धारा व शक्ति गुणांक और क्वालिटी फैक्टर परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned