VIDEO : पाली पुलिस ने किया ये खुलासा, कलर मास्टर गिरफ्तार, फैक्ट्री मालिक सहित दो जने फरार

Suresh Hemnani

Publish: Apr, 08 2019 05:28:21 PM (IST)

Pali, Pali, Rajasthan, India

- दमकल कार्यालय परिसर से जब्त कपड़े के थाने चोरी होने का मामला

पाली। नगर परिषद के दमकल कार्यालय परिसर से जब्त कपड़े के थान चोरी होने के मामले का कोतवाली पुलिस ने राजफाश कर दिया। पुलिस ने एक कलर मास्टर को गिरफ्तार किया है। फैक्ट्री मालिक व थान चुराने की वारदात में शामिल एक अन्य आरोपी फरार चल रहे हैं, उनकी तलाश जारी है। पुलिस ने आरोपी कलर मास्टर की निशानदेही पर चोरी के 35 थान बरामद किए। शेष माल बरामदगी का प्रयास जारी है।

थान प्रोसेस के लिए दिए, जब्त हो गए, चुराने खुद ही आया
कोतवाली पुलिस के अनुसार मंडिया रोड स्थित सिद्धि विनायक टैक्सटाइल फैक्ट्री है। इसका मालिक श्रीपाल नगर मंडिया रोड निवासी विशाल कोठारी पुत्र उतमचंद है। गत दिनों विशाल ने कपड़े के थान प्रोसेस के लिए ओझा का बास निवासी दिलीप पुत्र किस्तुरचंद गादिया को दिए थे। इस दौरान 45 थान नगर परिषद ने जब्त कर लिए। यह माल मस्तान बाबा स्थित नगर परिषद की अग्निशमन कार्यालय में परिषद ने रखे थे। फैक्ट्री मालिक विशाल ने अपना माल दिलीप गादिया से मांगा। इस पर दिलीप व दुर्गा कॉलोनी रामदेव रोड निवासी नारायण सिंह पुत्र सोहन सिंह राजपूत ने 29 मार्च को एक लोडिंग टैक्सी किराए की। यह टैक्सी लेकर वे अग्निशमन केन्द्र गए। यहां से टैक्सी में थान भरकर ले गए और विशाल कोठारी की फैक्ट्री में खाली कर दिए।

सीसीटीवी व टैक्सी चालक की मदद से खुला राज
चोरी का खुलासा होने के बाद अग्निमशन केन्द्र के सहायक रामलाल की रिपोर्ट पर कोतवाली पुलिस ने मामला दर्ज किया। सीसीटीवी में टैक्सी चालक सहित तीन जने कपड़े के थान भरकर ले जाते दिखे। पुलिस ने टैक्सी चालक से पूछताछ व सीसीटीवी फुटेज से पड़ताल की तो नारायण सिंह व दिलीप गादिया का नाम सामने आया। इस पर नारायण सिंह को गिरफ्तार किया गया। उसने पूरी कहानी पुलिस को बयां कर दी। अरोपी नारायण सिंह को न्यायालय ने जेल भेज दिया।

लापरवाही : सुरक्षा तो दूर, ये भी नहीं पता कि कपड़े के कितने थान किए थे जब्त
पाली। शहर में चोरी-छिपे अवैध रूप से कपड़े की धुलाई के मामले उजागर होने पर प्रशासन के साथ मिलकर नगर परिषद ने कार्रवाई कर लाखों रुपए के सैकड़ों थान जब्त तो किए, लेकिन इनकी सुरक्षा को लेकर कभी गंभीरता नहीं बरती। आलम यह है कि नगर परिषद के पास यह रेकर्ड तक नहीं है कि अभी तक उन्होंने कितना माल जब्त किया। रेकर्ड नहीं रखने को लेकर परिषद के जिम्मेदार अधिकारी एक-दूसरे की गलती बताते रहे।

प्रशासन के निर्देश पर नगर परिषद अतिक्रमण निरोधक दस्ते ने बापूनगर विस्तार क्षेत्र में कार्रवाई करते हुए कपड़े के थान जब्त किए थे और हौदियां तोडऩे की कार्रवाई की थी। इससे पहले अम्बेडकर सर्कल के निकट, आदर्श नगर क्षेत्र व पानी दरवाजा के निकट के क्षेत्र में कार्रवाई करते हुए कार्रवाई की थी। चोरी हुए थान बापूनगर विस्तार क्षेत्र में जब्त किए हुए थे।

दो-तीन जनप्रतिनिधियों पर भी शक की सुई
नगर परिषद के दमकल कार्यालय से दिनदहाड़े कपड़े के थान चोरी होने के बाद परिषद की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़ा हो गया है। इस पूरे प्रकरण में मिलीभगत का भी संदेह है। मामले में दो-तीन पार्षदों के नाम पर भी पुलिस की शक की सुई घूम रही है। पुलिस इसकी पड़ताल कर रही है।

नहीं दिया कोई रेकर्ड
डीओसी गैंग की ओर से जब्त माल दमकल कार्यालय परिसर में लाकर रख दिया। कहां से कितना माल जब्त किया इसकी जानकारी नहीं दी गई। ऐसे में कितना माल चोरी हुआ और अब कितना माल पड़ा है। इसकी स्पष्ट जानकारी नहीं है। - रामलाल गहलोत, सहायक अग्निशमन अधिकारी

हमारा काम सिर्फ जब्त करना
हमारा काम प्रशासनिक अधिकारियों के निर्देश के बाद अवैध माल जब्त करने का रहता है। उन्हें जब्त कर नगर परिषद दमकल कार्यालय परिसर में डाल देते है। इनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी वहां के प्रभारी की है। वहां हर समय होमगार्ड जवान रहते है। - बादलसिंह मेड़तिया, प्रभारी डीओसी शाखा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned