water crisis : टेवाली गांव के ग्रामीण नहीं है सरकार के भरोसे, जल संकट से निपटने के लिए खुद ने तलाशा रास्ता

water crisis : टेवाली गांव के ग्रामीण नहीं है सरकार के भरोसे, जल संकट से निपटने के लिए खुद ने तलाशा रास्ता

Suresh Hemnani | Publish: Jul, 26 2019 06:28:30 PM (IST) Pali, Pali, Rajasthan, India

-पाली जिले के टेवाली के ग्रामीणों ने पेश की अनूठी मिसाल
-जनसहयोग से किया पेयजल समस्या का समाधान

Drinking water crisis in pali :

पाली। Drinking water crisis in pali : जिले में जल का संकट गहराया तो टेवाली गांव के ग्रामीणों ने स्थानीय स्तर पर ही इसका समाधान खोज लिया। शहर से 25 किमी की दूर पर बसे चार हजार की आबादी वाले इस गांव का तालाब बरसात के अभाव में सूख गया है। तालाब के पास बेरियों में भी पानी नहीं रहा। इस पर ग्रामीणों ने सबसे पुरानी बेरी का जीर्णोद्धार करवाकर पानी निकालने की सोची।

इस बेरे के पानी को उपयोग में लेने के लिए भैरूजी चबूतरे पर ग्रामीणों ने बैठक की। इसके बाद प्रति घर से पांच सौ रुपए एकत्रित किए। इस पर चौपाल पर ही 31 सौ रुपए भगवानलाल व्यास ने सबसे पहले दिए। इसके बाद ग्रामीणों के सहयोग से बड़ी राशि जमा की गई और बेरी का जीर्णोद्धार शुरू हुआ। गांव में करीब बीस दिन तक इस बेरी का जीर्णोद्धार कार्य चला। यहां पंचायत के सहयोग से पक्की सुरक्षा दीवार बनाई गई है। कुएं की मशीने लगाकर सफाई करवाई गई है।

तीन लाख रुपए किए एकत्रित
गांव के भगवानलाल व्यास, जोगाराम एवं उपसरपंच गोविन्दसिंह कुंपावत, मूलचंद राठौड़, राणाराम कुमावत, हरीश व्यास, गुलाबसिंह राजपुरोहित ने बताया कि जनसहयोग से करीब तीन लाख रुपए एकत्रित किए थे। अब बेरी का जीर्णोद्धार होने के बाद किसी तरह की पेयजल किल्लत नहीं होगी। इसमें हर ग्रामीण ने सहयोग किया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned