‘मरुसागर’ बुझा सकेगा मार्च तक प्यास

जवाई बांध में मार्च माह तक जलापूर्ति का आ गया पानी

By: Praveen Singh Chouhan

Published: 24 Jul 2018, 11:01 AM IST

पाली. पश्चिमी राजस्थान के सबसे बड़े बांध जवाई पर निर्भर दो जिलों के निवासियों के लिए खुशी व राहत भरी खबर है। बांध में मार्च तक जलापूर्ति करने का पानी आ चुका है। पिछले वर्ष अच्छी बरसात होने के कारण जवाई बांध में इस बार दिसम्बर तक जलापूर्ति करने का पानी था। हाल ही में जिले व जवाई जल ग्रहण क्षेत्र में हुई बरसात के कारण बांध में अब तक करीब 700 एमसीएफटी से अधिक पानी की आवक हो चुकी है। जो हमारी प्रतिमाह 240 एमसीएफटी की मांग के अनुसार तीन माह के लिए पर्याप्त है। अभी बांध में 2223.40 एमसीएफी से अधिक पानी है। इसमें सेई बांध का पानी मिलाने पर यह आंकड़ा करीब 2500 एमसीएफटी हो जाता है। इसमें से 500 एमसीएफटी पानी डेड स्टोरेज का निकालने के बाद भी 2000 एमसीएफटी पानी शेष रहता है। जो करीब आठ माह के लिए अभी पर्याप्त है।

अब चाहिए 1000 एमसीएफटी पानी

जवाई बांध का पानी अगले साल बरसात आने तक उपयोग लिया जा सके। इसके लिए अभी कम से कम 1000-1200 एमसीएफटी पानी की और जरूरत है। जलदाय विभाग के अधिकारियों की मानें तो श्रावण व भाद्रपद में हमारे यहां बरसात होती है। उसमें इतने पानी की आवक तो हो ही जाएगी। ऐसे में अगले वर्ष जिलेवासियों को जल संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा।

10 शहर व 563 गांव जुड़े

जवाई बांध से दो जिलों के 10 शहर जुड़े हुए हैं। इनमें एक शहर सिरोही जिले का शिवगंज है। जहां जवाई से जलापूर्ति की जाती है। इसके अलावा पाली जिले में सुमेरपुर, तखतगढ़, फालना, बाली, रानी, मारवाड़ जंक्शन, जैतारण, पाली, सोजत में भी जवाई से जलापूर्ति की जाती है। इसके अलावा 560 गांवों में भी जवाई बांध से ही जलापूर्ति की जाती है।

शिवगंज को देते 40 लाख लीटर पानी रोजाना

जवाई बांध से शिवगंज शहर को 40 लाख लीटर पानी रोजाना दिया जाता है। इसी तरह 1600 लाख लीटर पानी पाली जिले में दिया जाता है। पाली शहर में रोजाना करीब 420 लाख लीटर पानी की आपूर्ति की जाती है।

इनका कहना है

जवाई बांध में हमारे पास दिसम्बर तक का पानी शेष था। हाल ही में हुई बरसात से तीन माह का पानी और आ गया है। ऐसे में अब बांध से मार्च तक जलापूर्ति की जा सकती है।
- राजेश अग्रवाल, अधिशासी अभियंता, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, पाली

Praveen Singh Chouhan Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned