scriptYouth trapped in Ukraine reached Sojat Road in Pali district | Russia-Ukraine Crisis : गिर रही थी मिसाइलें, दिखाई हिम्मत, धमाकों के बीच 15 जूनियर छात्रों को ले गया बॉर्डर पार | Patrika News

Russia-Ukraine Crisis : गिर रही थी मिसाइलें, दिखाई हिम्मत, धमाकों के बीच 15 जूनियर छात्रों को ले गया बॉर्डर पार

- यूक्रेन में फंसा सोजत रोड का युवक पहुंचा घर, 15 जूनियर छात्रों को भी करवाई बॉर्डर पार
- परिजनों की आंखों से छलके आंसू

पाली

Published: March 07, 2022 12:31:58 pm

गजेन्द्रसिंह गहलोत
सोजत रोड। Russia-Ukraine War : रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते यूक्रेन की राजधानी कीव में फंसे पाली जिले के सोजत रोड के महेन्द्र सोनी शनिवार देर अपने घर पहुंच गए। महेन्द्र के अपने देश पहुंचने के बाद परिजनों ने राहत की सांस ली। महेन्द्र की हिम्मत की हर कोई दाद दे रहा है। उसने अपने साथ 15 जूनियर ऐसे छात्रों को बॉर्डर पार करवाई, जो धमाकों से डरे हुए थे।
Russia-Ukraine Crisis : गिर रही थी मिसाइलें, दिखाई हिम्मत, धमाकों के बीच 15 जूनियर छात्रों को ले गया बॉर्डर पार
Russia-Ukraine Crisis : गिर रही थी मिसाइलें, दिखाई हिम्मत, धमाकों के बीच 15 जूनियर छात्रों को ले गया बॉर्डर पार
दरअसल, सोजत रोड कस्बे का महेन्द्र सोनी पुत्र तीर्थराज सोनी विगत चार वर्षों से यूक्रेन में एमबीबीएस कर रहा है। महेन्द्र नें बताया कि गत 28 फरवरी को इंडियन एडवाइजरी जारी हुई थी, जिसमें यह कहा गया था की जिनका रुकना जरुरी नहीं, वे लोग भारत जा सकते है। लेकिन पढ़ाई व एक्जाम के चलते ये 15 लोग होस्टल में ही रुक गए। लेकिन एक मार्च को परिजनों नें फोन कर महेन्द्र को सूचना दी कि रूस ने यूक्रेन पर हमला कर दिया है। तब महेन्द्र ने यूक्रेन में इंडियन एम्बेसी में कॉल कर सहायता मांगी तो उन्हें तुरन्त कीव सेंट्रल स्टेशन पहुंचने का कहा गया। लेकिन मात्र 22 किलोमीटर लम्बा यह रास्ता तय करने में उन्हें गाड़ी से करीब चार से पांच घंटे लग गए।
महेन्द्र ने बताया कि जब वे अपने 15 साथियों के साथ कीव स्टेशन पहुंचे तो वहां उनकी सहायता करने के लिए कोई मौजूद नहीं था। इसके अलावा स्थानीय लोग भी युद्ध के चलते कीव छोड़ रहे थे, तो वहां बहुत ज्यादा भीड़ थी। जिसके चलते उन्हें ट्रेन में जगह नही मिली। दूसरे दिन शाम को उन्होंने ट्रेन पकड़ी तथा लवीव पहुंचे, जहां से वे अपने स्तर पर बस कर स्लोवाकिया बॉर्डर पहुंचे। जहां उन्हे भारतीय वायुसेना के प्लेन से भारत लाया गया और गाजियाबाद एअरपोर्ट से उन सभी लोगों को फ्लाइट द्वारा अपने अपने राज्य भेजा गया। महेन्द्र ने बताया कि चार दिनों का यह सफर उन्हें जिंदगी भर याद रहेगा।
हर तरफ धमाकों की आवाज
महेन्द्र ने बताया कि यूक्रेन पर रूस के हमले की सूचना के तुरन्त बाद सभी यूक्रेन से निकलने की कोशिश में लग ग्ए। यूक्रेन से निकलने के दौरान करीब दो दिन उन्होंने धमाकों के बीच यात्रा में बिताए। उन्होंने बताया कि धमाकों की आवाज इतनी तेज होती थी कि वे सभी सहम जाते थे। चारों ओर मिसाइलों के हमलों से कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी, अपने जूनियर को भी साथ लेने की जिद्द करते 15 छात्रों को अपने साथ लेकर रवाना हुआ और आखिरकार बॉर्डर पार की।
जूनियर को साथ लेने की जिद के चलते छूटी ट्रेन
महेन्द्र ने बताया कि उनके साथ कई नए छात्र भी थे। जिन्हे यूक्रेन आए ज्यादा समय नहीं हुआ था। उन्हें भी साथ लेना जरूरी था, ऐसे हालात में महेन्द्र नें सभी छात्रों के गार्जियन की जिम्मेदारी निभाई। सभी को सुरक्षित साथ लाने की जिद के चलते वे ट्रेन भी चूक गए। जिसके चलते इनको एक रात कीव रेलवे स्टेशन पर गुजारनी पड़ी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी में शिवलिंग के दावे के बीच आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई, वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई कोExclusive: ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट मेंGood News: AIIMS दिल्ली में अब 300 रुपए तक के टेस्ट होंगे मुफ्तIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने उठाया आतंकवाद का मुद्दाअफगानिस्तान में तालिबान का नया फरमान- महिला टीवी एंकर चेहरा ढककर पढ़ें खबरअमेरिकी राष्ट्रपति Biden के लिए महाराष्ट्र और आंध्र से गिफ्ट में जाएंगे आमसीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.