15 जुलाई से सभी राज्यों में जाएंगी हरियाणा की बसें

हरियाणा में अंबाला, यमुनानगर, करनाल, पानीपत व सोनीपत उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड की सीमाओं से सटे हुए हैं।

By: Bhanu Pratap

Published: 01 Jul 2020, 10:59 PM IST

पानीपत/चंडीगढ़। अनलॉक 2.0 के बाद हरियाणा बसें चलाए जाने की तैयारी है। 15 जुलाई से हरियाणा में दोबारा पहले की तरह बसें चलेंगी। हरियाणा राज्य परिवहन विभाग ने इस संबंध में पड़ोसी राज्यों के साथ तालमेल शुरू कर दिया है। सरकार का मानना है कि जब तक पड़ोसी राज्यों द्वारा बसों का संचालन नहीं किया जाएगा तब तक हरियाणा को बसें चलाने का कोई लाभ नहीं मिलेगा। पंजाब सरकार ने अंतरराज्यीय आवागमन की छूट दे दी है। हिमाचल से भी बसें आ रही हैं। ऐसे में हरियाणा भी बस चलाएगा।

राज्यों ने सीमा से लौटाई बसें

हरियाणा में कोरोना व लॉकडाउन के चलते 24 मार्च से एक जून तक बस सर्विस पूरी तरह से बंद रही। एक जून से हरियाणा सरकार ने अंतर जिला व अंतरराज्जीय बस सेवा शुरू करने का प्रयास किया। इस बीच न तो दिल्ली सरकार ने हरियाणा की बसों को दिल्ली में प्रवेश करने की इजाजत दी और न ही पंजाब,हिमाचल, उत्तर प्रदेश उत्तराखंड व राजस्थान की सरकारों ने हरियाणा की बसों को आने दिया। कई राज्य तो ऐसे हैं जहां की सीमाओं से ही हरियाणा की बसों को वापस भेज दिया गया।

इन मार्गों पर बसें

हरियाणा में अंबाला, यमुनानगर, करनाल, पानीपत व सोनीपत उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड की सीमाओं से सटे हुए हैं। जिसके चलते उक्त स्टेशनों से हरियाणा रोडवेज की बसें रोजाना अंतरराज्जीय रूट पर चलती हैं। इसी तरह अंबाला, जींद, कैथल,सिरसा आदि जिले पंजाब के साथ तो सिरसा, फतेहाबाद, हिसार, रेवाड़ी, महेंद्रगढ़-नारनौल तथा रेवाड़ी आदि जिले राजस्थान के साथ सटे हुए हैं। उक्त पड़ोसी राज्यों के कई शहर तो ऐसे हैं जिनके लिए कई वर्षों से चंडीगढ़ से रोजाना बसों का संचालन हो रहा है और यह रूट लाभ में चल रहे हैं।

क्या कहते हैं मंत्री

हरियाणा सरकार के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा का को उम्मीद है कि 15 जुलाई से हरियाणा में फिर से बसों का सुचारू रूप से संचालन शुरू हो जाएगा। बसों को पूरी तरह से खोलने से पहले सभी जिलों से स्टेट्स रिपोर्ट मांगी गई है।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned