हरियाणा सरकार देगी मनरेगा श्रमिकों को देश में सबसे ज्यादा मजूदरी, जानिए कितने रुपए मिलेंगे?

विकास एवं पंचायत विभाग के प्रस्ताव को सीएम की हरी झंडी
63 रुपए बढ़ेगी मनरेगा दिहाड़ी, 20 दिन में होगा भुगतान

पानीपत/चंडीगढ़. हरियाणा सरकार ने मनरेगा में लगे मजदूरों की दिहाड़ी बढ़ाने का फैसला किया है। विकास एवं पंचायत विभाग के प्रस्ताव को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हरी झंडी प्रदान कर दी है। सीएमओ से फाइल वित्त विभाग में चली गई है। वित्त विभाग की मंजूरी मिलते ही हरियाणा में मनरेगा मजदूरों की दिहाड़ी में 63 रुपए की वृद्धि कर दी जाएगी। इस समय मनरेगा मजदूरों को 284 रुपए दिहाड़ी मिलती है।

हरियाणा की पूर्व हुड्डा सरकार के कार्यकाल के दौरान प्रदेश में मनरेगा को लागू किया गया था। 2018 के दौरान मनरेगा में मजदूरों को लगभग 350 करोड़ रुपए का काम मिला, वहीं 2019 में आचार संहिता के चलते केवल पांच महीने काम होने के बाद भी 300 करोड़ रुपए से अधिक का काम मजदूरों को मिला। हरियाणा में सरकार द्वारा न्यूनतम मजदूरी 334 रुपये के करीब तय की हुई है।


न्यूनतम मजदूरी देने के मामले में हरियाणा, देशभर के राज्यों में सबसे आगे है। 63 रुपये की बढ़ोतरी का भुगतान सरकार द्वारा अपने खजाने से किया जाएगा। वहीं 284 रुपये केंद्र की ओर से दिए जाएंगे। केंद्र सरकार ने मनरेगा योजना के तहत पहले ही तय किया हुआ है कि 90 प्रतिशत राशि का भुगतान केंद्र सरकार और 10 प्रतिशत राज्य सरकारें करेंगी। विभाग के अधिकारियों ने अब वित्त विभाग के अधिकारियों के सामने इस फाइल पर जल्द फैसला लेने का दबाव बना दिया है ताकि मजदूरों की दिहाड़ी में बढ़ोतरी को लागू किया जा सके।
यही नहीं अब मनरेगा के तहत कार्य करने वाले मजदूरों को उनकी दिहाड़ी का भुगतान भी 15 से 20 दिनों के भीतर किया जाएगा।

 


हरियाणा की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
पंजाब की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...

Show More
Devkumar Singodiya Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned