दिल्ली-मुंबई के कलाकारों ने सजाई एनआरसी की दीवारें, कलाकृति ऐसी की किसी को भी कर देगी खुश

किसी को भी खुश कर सकती हैं बोलती दीवारें

पन्ना. दिल्ली की सामाजिक संस्था आई वालेंटियर्स और मुंबई के आधा दर्जन से अधिक कलाकारों ने एनआरसी की दीवारों को बोहद खूबसूरत अंदाज में सजाया है। यह दीवारें कुपोषित और कष्ट से गुजर रहे बच्चों को खुश करने में सहायक होंगी। टीम को निकिता डिक्रूजा लीड कर रही हैं। युवाओं की यह टोली बीते तीन दिनों से एनआरसी को सजाने में लगी हुई है। सभी कलाकर यहां नि:शुल्क सेवाएं दे रहे हैं।

कलाकृति से कुपोषण मिटाने का दिया संदेश
मुंबई से आई कलाकार प्रियदर्शनी ओहोल ने बताया, हमें पन्ना में कुपोषण की जानकारी लगी थी जिससे हमने सोचा कि सामाजिक कार्य के तहत हम यहां खूबसूरत पेंटिंग बनाएं जिससे बच्चों को अच्छा महसूस होगा और गुड फील होने से बच्चे खाना अधिक खाएंगे और उनका कुपोषण दूर हो जाएगा। सौरभ खूबसूरत पेंटिंग्स बनाने में माहिर हैं। उन्होंने कहा, हम एक समाजसेवी संस्था के माध्यम से पन्ना के ग्रामीण क्षेत्रों में जाते रहे हैं और वहां के कुपोषित बच्चों को पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती कर आते थे। जब हमें लगा कि पोषण पुनर्वास केंद्र का माहौल और अच्छा कैसे किया जाए तभी इन सब कलाकारों से संपर्क कर उन्हें पन्ना बुलाया और सभी लोग नि:शुल्क रूप से यह पेंटिंग्स कर रहे हैं और हमें लगता है कि जब अति कुपोषित बच्चों की माताओं और बच्चों को पेंटिंग्स देखकर अच्छा अनुभव होगा तो निश्चित ही कुपोषण को दूर करने में मदद मिलेगी।

दीवारों की चिकला देख मरीजों में जल्द आएगा सुधार
पोषण पुनर्वास केंद्र की पोषक प्रशिक्षक रश्मि त्रिपाठी ने बताया, बच्चे कई बार खेल खेल में और खूबसूरत चित्रकारी को देखकर अधिक भोजन कर लेते हैं और उन्हें जब अच्छा अनुभव होता है तो उनका तेजी से वजन बढऩे लगता है। यही सोच इस चित्रकारी को आगे बढ़ाने और वार्ड को सुंदर सजाने में मदद कर रही है। इस दल में दिल्ली से आस्था कुमारी, नवीन सुंदरयाल, मोहम्मद कासिम, सरिता भंडारी, प्रशांत सौरभ, शाहनवाज खान, मुस्कान उपाध्याय, सौरव वर्मा, मुंबई से आई प्रियदर्शनी ओहोल सीएमएचओ डॉ. एलके तिवारी ने बताया कि खूबसूरत पेंटिंग बच्चों के मन को सम्मोहित करेंगे और उनके स्वास्थ्य में अच्छा फील होगा।

Anil singh kushwah Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned