शराब के नशे में नाली में पड़ा था आरक्षक, लोगों ने वीडियो बनाया तो बोला-बनाओ बनाओ

Rajiv Jain | Publish: Apr, 17 2018 02:44:28 PM (IST) Panna, Madhya Pradesh, India

मामला सोशल मीडिया पर आने के बाद उसे तुरंत निलंबित कर दिया है।

पन्ना. शराब के नशे में आदमी क्या क्या कर बैठता है, उसे खुद ही याद नहीं रहता। ऐसा ही एक वीडियो सामने आया है पन्ना के आरक्षक का। वह शराब के नशे में नाली के किनारे पड़ा है। लोग उसका वीडियो बना रहे हैं, इतने में उसकी मदहोशी टूटी तो वह लोगों को कहता है.. हां हां बना लो मेरा वीडियो। हालांकि पुलिस विभाग ने मामले को गंभीरता से लिया और मामला सोशल मीडिया पर आने के बाद उसे तुरंत निलंबित कर दिया है।
जानकारी के अनुसार आरक्षक विजय सिंह पहले वह छतरपुर में पदस्थ था। यहां भी शराब की लत के कारण अपनी सेवा में लापरवाही की तो उसको निलंबित कर दिया गया। कुछ समय बाद उसे बहाल कर पन्ना जिला मुख्यालय पर भेज दिया गया। लेकिन उसकी आदत में यहां भी कोई सुधार नहीं हुआ। रविवार को को उसने इतनी शराब पी ली की वो चल भी नहीं पा रहा था। नशे में धुत मध्यप्रदेश पुलिस का यह सिपाही सडक़ पर ही गिरा पड़ा। शराब के नशे में भी वो रौब झाड़ता रहा और लोगों को डराता रहा। लोगों ने उसका बैच नंबर 10 की जूम करके वीडियो बना ली, जिससे पुलिस को उसकी पहचान आसान हो गई, जिसके बाद उस पर कार्रवाई की गई ।

Panna Drunk Policeman
IMAGE CREDIT: patrika


किशोरी से ज्यादती व केरोसीन छिडक़कर हत्या करने वाले को आजीवन कारावास
पन्ना जिले के सिमरिया थाना क्षेत्र में किशोरी से ज्यादती करने के बाद हत्या के आरोपी को विशेष न्यायाधीश ने आजीवन कैद की सजा सुनाई है। अभियोजन के अनुसार आरोपी पप्पू हरगोविंद पिता स्वामीदीन लोधी निवासी चंद्रावल ने 22 दिसंबर 2015 की शाम करीब 4.30 बजे गांव के ही एक घर में घुसकर किशोरी के साथ ज्यादती की वारदात को अंजाम दिया और केरोसिन छिडक़कर किशोरी को आग के हवाले कर दिया। शोर सुनकर गांव के लोग आए और किशोरी को किसी बचाया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी। कोतवाली पुलिस ने पीडि़ता के मृत्यु पूर्व बयान दर्ज किए थे। जिसके आधार पर आरोपी के खिलाफ ज्यादती और हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत अपराध दर्ज किया गया था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट में पेश किया। जहां दोनों पक्षों को सुनने के बाद विशेष न्यायाधीश अमिताभ मिश्रा ने आरोपी को धारा 450  आईपीसी में 7 साल की कठोर कैद और 500 रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं भरने पर दो माह के अतिरिक्त कठोर कारावास की सजा सुनाई गई। इसी प्रकार धार 376 सह पठित धारा 511 आईपीसी में 10 साल की कठोर कैद और 500 रुपए के जुर्माने, धारा 302 में आजन्म कारावास और 500 रुपए के जुर्मान, धारा 7 लैंगिक अपराध मामले में 5 साल की कठोर कैद और 500 रुपए के जुर्माने एवं एसटीएससी एक्ट की धारा 3(2)(5) के तहत आजन्म कारावास की सजा व 500 रुपए के जुर्मान की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं भरने पर सभी धाराओं में दो माह के अतिरिक्त कठोर दंड की सजा सुनाई गई है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned