मां कलेही की पूजा-अर्चना से बैसाख मेला प्रारंभ, भक्तों ने निकाले जवारे

मां कलेही की पूजा-अर्चना से बैसाख मेला प्रारंभ, भक्तों ने निकाले जवारे
fair in mata kalehi campus in panna

Bajrangi Rathore | Updated: 29 Apr 2019, 01:01:32 AM (IST) Panna, Panna, Madhya Pradesh, India

मां कलेही की पूजा-अर्चना के बैसाख मेला प्रारंभ, भक्तों ने निकाले जवारे

पन्ना। मप्र के पन्ना जिले के पवई में माता कलेही के दरबार में विशेष पूजा-अर्चना के साथ रविवार से पांच दिवसीय मेले का समारोह के साथ शुभारंभ हुआ। पहले दिन रात करीब 9 बजे से ज्वारे माता के दरबार में पहुंचे। यह सिलसिला देर रात तक चलता रहा। रातभर नगडिय़ा की थाप पर भजन का कार्यक्रम भी चलता रहा।

दर्जनों गांवों से आए लोगों ने रातभर मातारानी के दरबार में भजन गए और श्रोताओं की वाहवाही लूटी। मेले के आयोजन को लेकर बच्चों में भारी उत्साह है। मेला के पहले दिन भी यहां लोगों ने जमकर खरीदारी की। गौरतलब है कि बनौली स्थित कंकाली मंदिर में लगने वाले मेले के समापन होने के बाद बैसाख माह की नवमी तिथि से कलेही माता मंदिर में मेला शुरू हो गया है। यहां बीते कई दशकों से मेला लग रहा है।

धीरे-धीरे इसकी भव्यता खत्म होती जा रही है। इसके बाद भी मेला घूमने को लेकर बच्चों के उत्साह में किसी प्रकार की कमी नहीं आई है। महिलाएं भी दैनिक उपयोग की सामग्री की खरीदारी के लिए मेले में पहुंच रही हैं। शुरुआती दिनों में परंपरागत सामग्री की खरीदारी अच्छी रही। शाम को मेला परिसर में सबसे अधिक लोग मातारानी के दर्शन करने और खरीदारी करने के लिए पहुंचे।

पांच दिन तक चलेगा मेला

बताया गया कि कलेही मंदिर में शुरू मेला पांच दिन तक चलेगा। मेले में अंतिम दिन सबसे अधिक लोग उमड़ते हैं। इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी का असर मेले में दोपहर को देखने को मिल रहा है। पहले दिन भी दोपहर में अपेक्षाकृत कम लोग खरीदारी करने पहुंचे थे। रात में ज्वारे निकले थे, इससे शाम को मेले में अधिक भीड़ थी। यह देर रात तक रही।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned