जिले के किसान स्टीविया की खेती कर कमा रहे लाखों रुपए, जानें कैसे होती है स्टीविया की फसल

मार्केटिंग के लिए राजस्थान भेजी गई सूखी पत्तियां

By: Anil singh kushwah

Updated: 01 Dec 2019, 10:53 PM IST

पन्ना. गुठला प्रतापपुर निवासी रामलगन पाल ने उद्यानिकी विभाग के मार्गदर्शन में स्टीविया की खेती शुरू की है। पहली बार उन्होंने .25 हेक्टेयर में स्टीविया लगाया है। इससे लगभग 4.50 क्विंंटल सूखी पत्तियां निकली हैं। जिन्हें बेचने के लिए जबलपुर की कंपनी ने खजुराहो से उदयपुर राजस्थान भेजा है। इसमें किसान को 31 हजार का चेक दिया है। अन्य किसानों से भी स्टीविया की पत्ती खरीदी जाएगी।

किसान ऐसे कमाएंगे लाभ
किसान ने बताया कि खेत की मेड़ों में स्टीविया के पौधे 15 सेमी की दूरी व 45 सेमी कतार में रोपित करते हैं। स्टीविया की खेती के लिए अन्य किसान भी उत्साहित नजर आ रहे हैं। सहायक संचालक उद्यान ने बताया कि जिले के लिए यह अलग से मीठी क्रांति के रूप विषेश उपलब्धि साबित होगी। स्टीविया की खेती से किसानों को सालाना प्रति एकड़ 1.40 लाख की आय प्राप्त होगी।

स्टीविया पत्ती से निर्मित पाउडर शक्कर से मीठा होता है
आज विश्व में मधुमेह के रोगियों की संख्या बढ़ रही है। स्टीविया लो कैलोरी के कारण मधुमेह के रोगी आराम से खा सकते है। स्टीविया की पत्ती शक्कर से 30 गुना अधिक मीठी होती है। स्टीविया पत्ती से निर्मित पाउडर शक्कर से 300 गुना अधिक मीठा रहता है।

Anil singh kushwah Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned