घर के आंगन में लहलहा रहे थे गांजे के पेड़, पुलिस को मुखबिर ने दी सूचना, फिर जानिए क्या हुआ

घर के आंगन में लहलहा रहे थे गांजे के पेड़, पुलिस को मुखबिर ने दी सूचना, फिर जानिए क्या हुआ

Suresh Kumar Mishra | Publish: Sep, 11 2018 05:20:05 PM (IST) Panna, Madhya Pradesh, India

घर के आंगन में लहलहा रहे थे गांजे के पेड़, पुलिस को मुखबिर ने दी सूचना, फिर जानिए क्या हुआ

पन्ना। जिले के अजयगढ़ थाना क्षेत्र में पुलिस ने दो स्थानों पर छापामार कार्रवाई कर घरों में लहलहा रहे गांजे के पेड़ जब्त किए हैं। जब्त गांजा के पेड़ों का वजन करीब 16 किग्रा. है। मामले में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जब्त गांजे की कीमत हजारों रुपए बताई जा रही है। जानकारी के अनुसार अजयगढ़ थाना प्रभारी वीरेन्द्र बहादुर सिंह को मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम फरस्वाहा के दो घरों के आंगन में अवैध रूप से गांजे के पेड़ लगाकर खेती की जा रही है। मुखबिर की सूचना पर थाना प्रभारी ने कार्रवाई के लिए दो टीमें गठित की।

सरिता तिवारी, आरआर प्रजापति के साथ टीम को ग्राम के लिए रवाना किया गया। टीम फरस्वाहा पहुंचकर हरिप्रसाद त्रिपाठी पिता मइयादीन त्रिपाठी के घर में देखा तो आंगन में 5 पेड़ गांजे के लहलहा रहे थे। टीम ने इन पेड़ों को मौके से उखड़वाया गया और वजन किया। गांजा के जब्त पांच पेड़ों का वजन 9 किलो 700 ग्राम था। पुलिस ने इन्हें जब्त कर आरोरी को गिरफ्तार कर लिया है।

पूर्व में भी कई बार पकड़ा गया है गांजा
जिले में पुलिस द्वारा पूर्व में भी सलेहा, शाहनगर और सेमरिया थाना क्षेत्रों में गांजा पकड़ा जा चुका है। इससे पहले बीते साल नवंबर में जिले के ग्राम हड़ा और मेहगवां में दो किसानों ने अरहर की फसल के साथ गांजे के पेड़ भी लगा रखे थे। दोनों किसानों के खेत से गांजा के 117 पेड़ बरामद किए गए, जिनका वजन 50 किग्रा. निकला। जब्त गांजा के पेड़ों की अनुमानित कीमत 2.60 लाख रुपए आंकी गई थी।

बुंदेलखंड में गाजा की खेती का गढ़

पिछड़ापन और बेरोजगारी का दंश झेल रहा पन्ना जिला बुंदेलखंड में गाजा की खेती का गढ़ बनता जा रहा है। जिले के सलेहा, पवई, शाहनगर और गुनौर थाना क्षेत्रों में बीते छह माह में गांजा के खिलाफ आधा दर्जन से अधिक कार्रवाई की जा चुकी है। बीते साल ही सलेहा थाना क्षेत्र के ग्राम पटना तमोली से करीब 4 क्विंटल 11 किग्रा. गांजा पकड़ा गया था। जिसकी अनुमानित कीमत करीब 9 लाख आंकी थी।

पुलिस प्रशासन की लगातार कार्रवाई

वहीं शाहनगर थाना ग्राम बोरी में सरपंच के घर की बाड़ी में लगे गांजा के 15 पेड़ जब्त किए गए थे, जिसका वजन 15 किलो 700 ग्राम था। इनकी अनुमानित कीमत 54 हजार रुपए थी। इसके अलावा गुनौर में भी गांजा के पेड़ जब्त किए गए थे। जिले में गांजा की खेती के खिलाफ पुलिस प्रशासन की लगातार कार्रवाई के बाद भी कारोबार रुकने का नाम नहीं ले रहा है। जिले में गांजा की खेती के गढ़ के रूप में सलेहा क्षेत्र कुख्यात है।

यहां भी जब्ती की कार्रवाई
दूसरी टीम ने ग्राम फरस्वाहा के ही अतुल उर्फ पुनीत कुमार पिता बाबू राम तिवारी के घर में दबिश दी। इस दौरान घर में गांजा के कई पेड़ लगे मिले। जिन्हें मौके पर ही उखड़वाकर वजन किया गया। जहां जब्त गांजा के पेड़ों का वजन 6 किलो 200 ग्राम पाया गया। यहां से भी आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। इस प्रकार पुलिस ने दोनों आरोपियों के पास से 15 किलो 900 ग्राम गांजा जब्त किया है, जिसकी अनुमानित कीमत हजारों रुपए बताई जा रही है। दोनों आरोपियो को गांजा सहित पकड़कर थाना अजयगढ लाया गया। कार्रवाई में मनोज त्रिपाठी, भूरी सिंह, अनिल गर्ग, खेमचन्द्र राय, आइमात सेन, अमृता त्रिपाठी, नंद किशोर मिलन कोदर का सराहनीय योगदान रहा।

मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में छापामार कार्रवाई की गई है। दोनों स्थानों से 15 किलो 900 ग्राम गांजा बरामद किया गया है। आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले में एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की जा रही है।
वीरेन्द्र बहादुर सिंह, थाना प्रभारी अजयगढ़

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned