14 से लगेंगे होलाष्टक, उत्तरा फाल्गुनी व हस्त नक्षत्र में मनेगी होली

14 से लगेंगे होलाष्टक, उत्तरा फाल्गुनी व हस्त नक्षत्र में मनेगी होली

By: Bajrangi rathore

Published: 10 Mar 2019, 07:32 PM IST

पन्ना। देशभर में खुशी और उत्साह का पर्व होली 20 मार्च को और रंगोत्सव 21 मार्च को मनाया जाएगा। पर्व को लेकर मप्र के पन्ना जिलें में भी तैयारियां शुरू हो गई हैं। घरों से बाहर रह रहे लोग अपने गांव व शहर लौटने के लिए ट्रेनों-बसों आदि में बुकिंग करा रहे हैं वहीं कई लोगों ने नौकरी से अवकाश के आवेदन भी दे दिए हैं।

मार्केट में एक ओर होली गीत सुनाई देने लगे हैं तो दूसरी ओर रंग-गुलाल की दुकानों के विक्रेताओं ने आर्डर दे दिए हंै। आगामी तीन-चार दिन बाद नगर में रंग-गुलाल की दुकानें भी लगनी शुरू हो जाएंगी। होलिका दहन के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों ने चंदा और लकडिय़ां इकट्ठा करना शुरू कर दिया है।

गौरतलब है कि होली फसलों की कटाई के पूर्व मनाया जाने वाला खुशी का पर्व है। इसका लोगों को सालभर इंतजार रहता है। इस साल अभी पर्व को कई दिन शेष होने के बाद भी तैयारियां शुरू हो गई हैं।

नहीं होंगे शुभ कार्य

इस बार होलाष्टक और मीन मलमास एक साथ शुरू हो रहे हैं। रंगोत्सव 21 मार्च को उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में तथा हस्त नक्षत्र के संयोग के बीच होली मनाई जाएगी। पंडित अवध बिहारी ने बताया, 20 मार्च की रात 8.13 बजे तक भद्रा होने के कारण 8.15 बजे से होलिका दहन का मुहूर्त बन रहा है।

इस बार उत्तरा फाल्गुनी व हस्त नक्षत्र के संयोग होने से देश में खुशहाली, भरपूर अन्न, किसान खुशहाल होंगे। इस तरह 14 मार्च को होलाष्टक शुरू होने से 14 अप्रैल मलमास खत्म होने तक सगाई, विवाह, मुंडन, जनेऊ आदि संस्कार नहीं होंगे। 21 मार्च को होली के साथ-साथ पूर्णिमा स्नान, कुल देवता को सिंदूर अर्पण, होली का भस्म धारण आदि भी होगा।

यही एक पर्व है जिसमें लोग गिला-शिकवा छोड़कर और जाति-धर्म से ऊपर उठकर एक-दूसरे से गले मिलते हैं। उन्होंने कहा कि राशि के अनुसार रंग खेलने की बात भ्रांति है। सनातन धर्म में लाल, गुलाबी और पीले प्राकृतिक रंग के उपयोग को सर्वोत्तम व धर्म शास्त्रोचित माना गया है, होली खेलने के लिए इन्हीं तीन प्राकृतिक रंगों का प्रयोग करना चाहिए।

फाग की शुरू हुई तैयारियां

होली पर्व में फाग गाने का विशेष महत्व होता है। इसी कारण ग्रामीण क्षेत्रों में फाग गए जाने को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। जगह-जगह युवाओं की टोलियां तैयार हो रही हैं। फाग गायन में उपयोग होने वाली नगडिय़ा की बिक्री भी रविवार को साप्ताहिक बाजार में की जा रही थी। यहां गुनौर क्षेत्र से इन्हें बेचने के लिए ग्रामीण आया है।

होली मिलन समारोह 25 को

रंगपंचमी के अवसर पर होली मिलन समारोह एवं काव्यधारा का आयोजन 25 मार्च को किंडरलैंड स्कूल में आयोजित किया जा रहा है। इस दौरान कवि कुल साहित्य परिषद के अध्यक्ष गोविंद यदुवंशी ने सभी रचनाकारों को 23 मार्च तक अपना-अपना पंजीयन कराने की अपील की है।

Bajrangi rathore Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned