तेंदुए ने रेस्क्यू ऑपरेशन में खूब छकाया, पर हाथ नहीं आया, चार को पहुंचाया अस्पताल

तेंदुए ने रेस्क्यू ऑपरेशन में खूब छकाया, पर हाथ नहीं आया, चार को पहुंचाया अस्पताल
Leopard attacked the rescue operation, but did not come to the hospital,

Bajrangi Rathore | Publish: Jun, 20 2019 10:59:48 PM (IST) Panna, Panna, Madhya Pradesh, India

तेंदुए ने रेस्क्यू ऑपरेशन में खूब छकाया, पर हाथ नहीं आया, चार को पहुंचाया अस्पताल

पन्ना। मप्र के पन्ना जिले में पन्ना टाइगर रिजर्व के कोर जोन से निकलकर अमानगंज रेंज के पगरा के यादव नाला के पास पहुंचे तेंदुए ने वन्य प्राणी चिकित्सक डॉ. संजीव गुप्ता सहित दो वन कर्मियों और एक ग्रामीण पर हमलाकर घायल कर दिया है। तेंदुए को ट्रेंकुलाइज कर सुरक्षित वन क्षेत्र में छोडऩे देर शाम तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलता रहा।

मामले की जानकारी लगने के बाद वन विभाग के साथ ही राजस्व विभाग के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए थे। ग्रामीणों का पूरा दिन दहशत में बीता। खबर लिखे जाने पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी था। जानकारी के अनुसार ग्रामीणों ने सुबह तेंदुए को ग्राम पगरा के यादव नाला के पास देखा।

ग्रामीणों के शोर करने पर तेंदुए ने रतन पटेल पर हमला कर दिया और वहीं पास में झोपड़ी में घुस गया। झोपड़ी से निकलने के बाद घंटों नाले के पास बैठा रहा। ग्रामीणों ने मामले की जानकारी वन विभाग को दी। इस पर पन्ना टाइगर रिजर्व की रेस्क्यू टीम ग्राम पगरा पहुंची और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। इस दौरान तेंदुए ने दो वन कर्मियों चौकीदार राकेश पांडेय झरकुआ बीटा और एक अन्य वनकर्मी पर हमला कर घायल कर दिया।

रेस्क्यू टीम पर भी किया हमला

बताया गया कि शाम के समय रेस्क्यू टीम द्वारा तेंदुए को ट्रेंकुलाइज करने का प्रयास किया जा रहा था, इसी दौरान वह पन्ना टाइगर रिजर्व के वन्य प्राणी चिकित्सक डॉ. संजीव गुप्ता पर हमला कर जख्मी कर दिया। बताया गया कि यदि तेंदुए को गुरुवार को नहीं पकड़ा जा सका तो शुक्रवार को भी रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जाएगा। डॉ. संजीव गुप्ता ने बताया, टें्कुलाइज होने से पूर्व ही तेंदुए ने हमला कर दिया था।

दहशत में बीता ग्रामीणों का दिन

गांव में तेंदुए की आमद से दिनभर पगरा और आसपास के ग्रामीण दहशत में रहे। बच्चों का घरों से बाहर निकलना बंद कर दिया गया था। इसके साथ ही आसपास के लोगाों को भी सुरक्षा उपायों के साथ ही घरों के बाहर निकलने की सलाह दी जा रही थी।

...और यहां बाघ ने किया बैल का शिकार

एक ओर जहां टाइगर रिजर्व के तेंदुए ने अनमागंज के पगरा में दो लोगों को जख्मी कर दिया, वहीं दूसरी ओर इसके एक दिन पूर्व ही पन्ना-अमानगंज मार्ग पर बाघ पी- 111 ने रात में एक बैल का शिकार कर लिया। इसके बाद लेंटाना की घनी झाडिय़ों में आराम फरमाने लगा। मुख्य मार्ग से महज 20-25 फीट की दूरी पर लेटे होने के कारण राहगीरों द्वारा सड़क से भी देखा जा रहा था। रेडियो कॉलर्ड बाघ को दल ने झडिय़ों से निकालकर जंगल की ओर खदेडऩे का प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हो पाए। इसक ेबाद पार्क प्रबंधन को जानकारी दी गई।

बाघ की खैरियत जांचने दो हाथियों को बुलाया गया। टाइगर रिजर्व के प्रशिक्षत हाथी बाघ के पास पहुंचे। इसके बाद भी बाघ में कोई हरकत नहीं होने पर महावत के इशारे पर हाथी ने बाघ को उठाकर हवा में उछाल दिया। इससे बाघ आक्रोशित हो गया और जोर से गर्जना की। हाथी पीछे हट गया और बाघ जंगल की ओर भाग गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned