झाड़ू-पोछा करने के बाद कर देते हैं बच्चों की छुट्टी, भगवान भरोसे पन्ना जिले में स्कूल

झाड़ू-पोछा करने के बाद कर देते हैं बच्चों की छुट्टी, भगवान भरोसे पन्ना जिले में स्कूल

suresh mishra | Publish: Aug, 08 2018 04:54:51 PM (IST) Panna, Madhya Pradesh, India

लापरवाहों के भरोसे शिक्षा व्यवस्था: बच्चे तो विद्यालय जाते हैं, कक्षाएं ही नहीं लगतीं, समय पर स्कूल नहीं पहुंच रहे अध्यापक

पन्ना। सरकार की ओर से शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने तरह-तरह की योजनाएं संचालित की जा रही हैं। स्कूली बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा, खाना, ड्रेस आदि आवश्यक सामग्री का वितरण होता है। जिले के प्रशासनिक अधिकारियों और शिक्षकों की अनदेखी के कारण बच्चों का भविष्य प्रभावित हो रहा है। स्कूल में बच्चे तो आते हैं पर कक्षाएं लापरवाह शिक्षकों के कारण खाली रहती हैं।

जिले के दर्जनभर स्कूलों में बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। स्कूलों में कक्षाएं नहीं लगने के कारण बच्चे घर चले जाते हैं। अधिकारियों की सतत निगरानी नहीं होने के कारण शासकीय स्कूलों में शिक्षा का स्तर गिरता जा रहा है।

नवीन शैक्षणिक सत्र-2018 में प्रशासनिक अधिकारियों के औचक निरीक्षण के बाद कुछ ऐसे मामले सामने आए है जहां शिक्षकों की लापरवाही पाई गई। जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में कई ऐसे शासकीय स्कूल हैं जहां कई विषयों की किताबें तक नहीं खुली हैं।

स्कूल मेें झाड़ू लगाते मिले बच्चे
माध्यमिक शाला ठेपा में मंगलवार को स्कूल में बच्चे झाड़ू लगाते मिले। शिक्षक रूप सिंह एवं अर्चना नामदेव शासकीय कार्यों मे व्यस्त दिखे। ऐसी स्थिति में छात्र विद्यालय तो आते हैं पर बिना पढ़ाई के घर चले जाते हैं। स्कूल में 136 छात्र दर्ज हैं। बच्चे पूजा, रामपाल, सपना ने बताया कि गणित, इंग्लिश, विज्ञान, संस्कृत विषयों की किताबें अभी तक नहीं खुली हैं। शिक्षक पालक संघ के अध्यक्ष ने बताया कि विद्यालय में शिक्षक समय से नहीं पहुंचेते हैं। 2 लाख की लागत से शासकीय भवन ग्राम पंचायत के माध्यम से बनाया गया था जो बारिश में गिरने की कगार पर है। वहीं छात्रों में राधा, आदित्य, प्रताप सिंह ने बताया कि स्कूल आते ही पूरे कमरों मे पहले झाडू लगानी पड़ती है।

मीनू अनुसार नहीं दिया जा रहा एमडीएम
बच्चों ने बताया कि मीनू के अनुसार एमडीएम नहीं दिया जा रहा है। शाहनगर मुख्यालय सहित अंचलों का मध्याह्न भोजन का स्तर गिरता जा रहा है। कई विद्यालयों में घर से भोजन बनकर विद्यालय पहुंचाया जाता है जिसमें शाहनगर मुख्यालय के विद्यालय प्रमुख हैं। वहीं अंचलों में भी यही हाल देखने को मिल रहा है।

असामाजिक तत्वों का जमावड़ा
शासकीय उत्कृृष्ट उच्चतर माध्यमिक पवई में आए दिन असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लगा रहता है। बच्चों की शिकायत पर बीते दिन 100 डायल के कर्मचारी जब पहुंचे तो सभी भाग निकले। छात्रों ने बताए कि स्थानीय असामाजिक तत्वों द्वारा आए दिन छात्राओं से अभद्र व्यवहार किया जाता है। मामले की शिकायत प्राचार्य से भी की गई है।

एक ही क्लास में बैठाते हैं छात्र
जिले के बृजपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बरहोकुंदकपुर में सभी क्लास के बच्चों के लिए अलग-अलग कक्षाएं होने के बाद भी शिक्षकों द्वारा मनमाने तरीके से एक ही कक्षा में सभी को बैठाया जाता है। ग्रामीणों ने बताया कि इस बात की शिकायत प्राचार्य से की गई तो उन्होंने कहा कि शिक्षकों की कमी है, इसलिए एक साथ सभी को पढ़ाया जा रहा है।

Ad Block is Banned