पन्ना की जिगनी रेत खदान पर SDM की दबिश, पुल सहित केन नदी पर बने 6 रास्तों को किया ध्वस्त

तीन भारी भरकम मशीनें पकड़े जाने, कई बार रास्ते तोड़े जाने के बाद भी नहीं रुक रहा करोड़ों का रेत का काला कारोबार

By: suresh mishra

Published: 18 Mar 2018, 03:15 PM IST

पन्ना। अजयगढ़ केन नदी में अवैध रूप से चल रही जिगनी रेत खदान में शनिवार दोपहर राजस्व और पुलिस विभाग की टीम ने एकबार फिर संयुक्त रूप से कार्रवाई की। कार्रवाई के दौरान रेत खदान तक पहुंचने वाले छह रास्तों और नदी का बहाव रोककर अवैध रूप से बनाए गए पुुलों को तोड़ा गया।

जानकारी के अनुसार एसडीएम विनय द्विवेदी, पुलिस अमले के साथ अचानक जिगनी अवैध रेत खदान पहुंचे। यहां पर पूर्व की तरह दोबारा बना लिए गए 6 रास्तों को जेसीबी से तोड़ दिया गया। इसके साथ ही नदी का बहाव रोककर बनाए गए पुलों को भी तोड़ा गया। यह कार्रवाई दिनभर चलती रही।

ये है पूरा मामला
गौरतलब है कि उक्त खदान में बीते दो माह में कई बार कार्रवाई की गई हैं। जिन छह रास्तों को तोड़ा गया है उन्हें पूर्व में भी कई बार तोड़ा गया है। इसके बाद भी रेत का काला करोबार नहीं रुक रहा है। प्रशासन के कार्रवाई करने के कुछ ही देर बाद कारोबारियों द्वारा फिर से रास्ता बना लिया जाता है और पूर्व की तरह ही रेत का अवैध उत्खनन और परिवहन किया जाने लगता है।

कुछ दिन पूर्व पकड़ी तीन पोकलैंड मशीनें
जानकारी के अनुसार कुछ दिन पूर्व ही प्रशासन द्वारा उक्त खदान में छापामार कार्रवाई की गई थी। इस दौरान यहां तीन मशीनें और लिफ्टर पकड़ी जा चुकी हैं। इसके बाद भी यहां रेत का अवैध कारोबार रुक नहीं रहा है। जो तीन मशीनें बची हैं वे कार्रवाई ही आहट मिलते ही छतरपुर की सीमा में जाकर वहां चलने वाली खदान के पास पहुंचकर खड़ी हो जाती हैं और कार्रवाई के दायरे से बच जाती हैं।

कई रसूखदारों की अवैध खदान
बार-बार 6 रास्ता तोड़े जाने से यह तो साबित होता है कि जिगनी में कई रसूखदार अवैध उत्खनन कर रहे हैं। 17 लोगों के खेतों से होकर जिगनी अवैध रेत खदान का रास्ता आता है। यह लोग 1100 रुपए प्रति ट्रक के हिसाब से इन कारोबारियों से ले लेते हैं। रेत खदान तक भारी भरकम मशीनें और लिफ्टर पहुंचने पर भी चौकी पुलिस को जानकारी नहीं होना पुलिस की सक्रियता पर सवाल उठाता है।

शाम होते ही एमपी-यूपी के लोगों का लगता है जमावड़ा
जिगनी रेत खदान एमपी-यूपी के बार्डर पर है। इससे शाम होते ही लोगों का जमावड़ा लग जाता है। इन लोगों द्वारा खदान क्षेत्रों में रातभर रेत का परिवहन कराया जाता है। प्रशासन द्वार आए दिन कार्रवाई करके अपनी पीठ तो थपथपवा ली जाती है, लेकिन काले कारोबार पर प्रशासन रोक नहीं लगा पा रहा है। विभागीय लोगों के संरक्षण में ही खदानों में भारी भरकम मशीनों से रेत का उत्खनन किया जा रहा है। इसी कारण इस पर प्रभावी रोक नहीं लग पा रही है।

जिगनी में अवैध उत्खनन बन्द करवाना मेरी प्राथमिकताओं में शामिल है। अभी कुछ दिनों से लगातार कार्रवाई हो रही है। अब मैं राजस्व अमले से सप्ताह में कई बार यहां की निगरानी करवाउंगा। यह रास्ता बनते ही तोड़ दिए जाएंगे व बनाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
विनय द्विवेदी, एसडीएम

Show More
suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned