संजय टाइगर रिजर्व में तीन वर्ष में बाघों की वंशवृद्धि पर संशय, प्रबंधन डाल रहा पर्दा

कर्मचारी ने कहा, बाघिन टी-22 के बाद नहीं जन्में शावक

By: Anil singh kushwah

Published: 07 Jul 2019, 06:02 PM IST

सीधी. बाघों के संरक्षण व संवर्धन के लिए शासन स्तर से हर वर्ष संजय टाइगर रिजर्व को करोड़ों रुपए का बजट उपलब्ध कराया जा रहा है, लेकिन यहां स्थितियां प्रतिकूल हैं। विभागीय सूत्रों की मानें तो टाइगर रिजर्व में बीते तीन वर्ष से एक भी शावक का जन्म नहीं हुआ। जबकि, ्रदावा किया जा रहा है कि संजय टाइगर रिजर्व में चार मादा व दो नर वयस्क यानी कुल छह बाघ हैं। इसके बावजूद वंशवृद्धि न होना विभागीय दावों पर सवाल पैदा करते हैं। पन्ना से सीधी लाई गई मादा बाघ टी-22 आतंक का पर्याय बन चुकी थी। रात में वह जंगल से गांव पहुंच जाती थी और पालतू जानवरों का शिकार कर जंगल घसीट ले जाती थी। इसके आतंक को देखते हुए उसे बेहोशी देकर संजय टाइगर रिजर्व में शिफ्ट किया गया था। बर्ताव में सुधार होने पर उसे खुले जंगल में छोड़ा गया था। यहां उसने तीन शावकों को जन्म दिया था। इसके बाद संजय टाइगर में एक भी शावक का जन्म नहीं हुआ।

तीनों शावकों व बाघ की हो चुकी है मौत
संजय टाइगर रिजर्व में तीन शावकों को जन्म देने वाली बाघिन टी-२२ की वर्चस्व की लड़ाई में घायल हो गई थी। लेकिन समय पर उपचार न मिल पाने के कारण उसकी मौत हो गई थी। इसके बाद एक शावक की मौत भी हो गई थी। दो शावकों को संजय टाइगर रिजर्व से हटाकर शहडोल ले जाया गया, लेकिन उन्हें भी नहीं बचाया जा सका। एक दिन के अंतराल में तीनों शावकों की मौत हो गई।

विभाग का दावा हर साल पैदा होते शावक
संजय टाइगर रिजर्व मे भले ही फील्ड में बाघ नहीं दिखाए दे रहे हैं, लेकिन विभाग के अधिकारी प्रतिवर्ष आधा दर्जन से ज्यादा शावकों के जन्म होने के दावे कर रहा है। विभाग का कहना है कि इस वर्ष भी दो मादा बाघ ने आठ शावकों को जन्म दी हैं, किंतु उसकी फुटेज विभाग आज तक प्रस्तुत नहीं कर पाया है, जबकि रिजर्व क्षेत्र में सैकड़ों की संख्या में कैमरे लगाए गए हैं। इधर, सीधी में संजय टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक बिसेंट रहीम ने कहा कि संजय टाइगर रिजर्व में बाघों का हर साल प्रजनन हो रहा है, इस वर्ष भी दो मादा बाघ ने चार-चार की संख्या मे आठ शावकों को जन्म दी हैं।

Anil singh kushwah Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned