बस स्टैंड की जमीन पर कर रखा था कब्जा, जेसीबी देख निकले आंसू

बस स्टैंड की जमीन पर कर रखा था कब्जा, जेसीबी देख निकले आंसू
The bus was kept on the ground on the ground, captured the tears

Bajrangi Rathore | Updated: 22 Jul 2019, 12:38:19 AM (IST) Panna, Panna, Madhya Pradesh, India

बस स्टैंड की जमीन पर कर रखा था कब्जा, जेसीबी देख निकले आंसू

पन्ना। मप्र के पन्ना जिले के शाहनगर में प्रस्तावित बस स्टैंड निर्माण के लिए स्थानीय प्रशासन दोपहर में जेसीबी और भारी भरकम अमले के साथ पहुंचा तो हड़कंप मच गया। दुकानदारों ने एसडीएम से नई जगह पर स्थान तलाशने के लिए कुछ मोहलत मांगी, लेकिन प्रशासन ने उनकी एक नहीं सुनी।

दुकानों में रखी सामग्री बाहर रखकर दुकानों और टपरों को हटाया गया। कुछ दुकानदारों द्वारा प्रशासन की उक्त कार्रवाई का विरोध भी किया गया। गौरतलब है कि शाहनगर अनुभाग व तहसील मुख्यालय होने के बाद भी यहां अभी तक बस स्टैंड की सुविधा नहीं है। इससे यहां से गुजरने वाली बसें यात्रियों को चढ़ाने और उतारने के लिए सड़क के किनारे खड़ी कर दी जाती हैं। इससे यातायात व्यवस्था प्रभावित होती है।

यही कारण है कि यहां लंबे समय से बस स्टैंड की मांग की जा रही थी। शासन की ओर से जिस जगह पर बस स्टैंड के लिए जमीन अलाट की गई है वहां पर स्वास्थ्य विभाग के करीब आधा दर्जन सरकारी क्वार्टर बने हुए थे। इसके अलावा यहां दर्जनों की संख्या में छोटी-छोटी दुकानें टपरों के अंदर संचालित हो रही थीं।

बताया गया कि उक्त दुकानों के संचालकों को अतिक्रमण हटाने के संबंध में पंचायत द्वारा करीब छह माह पूर्व नोटिस जारी किए गए थे। इसके बाद भी किसी ने तय अपने लिए नवीन स्थान की व्यवस्था नहीं की थी।

दोपहर में अचानक मची तफरा-तफरी

बगैर किसी पूर्व सूचना के दोपहर करीब ३ बजे प्रशासन का भरी भरकम अमला पुलिस बल और जेसीबी के साथ मार्केट में पहुंचा तो हड़कंप की स्थिति बन गई। दुकानदारों को तो समझ में ही नहीं आ रहा था कि बगैर किसी जानकारी के प्रशासन अचानक अतिक्रमण हटाने कैसे पहुंच गया। भरी बरसात में प्रशासन के अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने को लेकर लोगों ने विरोध भी किया। इससे प्रशासन को विरोध का भी सामना करना पड़ा।

अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान स्वास्थ्य विभाग के बने आधा दर्जन सरकारी क्वार्टर को भी तोड़ा गया। एसडीएम ने कहा, इन क्वार्टरों में जो लोग रह रहे थे उनके लिए अन्यत्र व्यवस्था की जाएगी। एसडीएम अभिषेक सिंह ठाकुर ने बताया, अतिक्रमणकारियों को व्यवस्था करने के लिए छह माह पूर्व पंचायत की ओर से नोटिस जारी किया गया था।

कार्रवाई का किया विरोध

कार्रवाई के दौरान अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई के दौरान प्रस्तावित स्थल पर चल रहे करीब दो दर्जन टपरे वहां से हटाए गए। दुकानदारों के सामान को टपरे के बाहर खुले आसमान तले रख दिया गया था। कार्रवाई का कुछ दुकानदारों द्वरा जहां विरोध किया गया वहीं कुछ दुकानदारों की आंखों से आंसू छलकने लगे थे।

उनका कहना था कि बारिश के दिनों में वे दुकान कहां लगाएंगे। इतनी जल्दी नई जगह कैसे तलाशें, जबकि रक्षा बंधन पर्व को एक माह से भी कम का समय बचा है। प्रशासन को बारिश के दिनों में अतिक्रमण नहीं हटाना चाहिए था। जिन दुकानों को हटाया गया उनमें साइकिल रिपेयरिंग, मनिहारी, चाय-पान के ठेले, नाश्ते की दुकानें जैसे छोटी-छोटी दुकानें थीं।

ग्राम पंचायत ने छह माह पहले नोटिस जारी किया था। जो क्वार्टर तोड़े गए हैं उनमें रह रहे लोगों के रहने के लिए कहीं और व्यवस्था की जाएगी।
अभिषेक सिंह ठाकुर, एसडीएम

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned