अनूठी पहल: जिले के सरकारी स्कूलों में दो दिन होगी दक्षता परीक्षा, तीसरे दिन बाल सभा में दिया जाएगा सम्मान

प्रतिभा पर्व अगले माह....अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप कार्यक्रम तैयार

पन्ना. सरकारी स्कूलों में अध्यनरत बच्चों की शैक्षणिक गुणवत्ता में सुधार व दक्षता मूल्यांकन के उद्देश्य प्रतिभा पर्व इस वर्ष 12 से 14 दिसंबर तक होंगे। उल्लेखनीय है कि माध्यमिक स्तर तक के बच्चों की दक्षता आंकलन के लिए तीन तरह की परीक्षाएं होती हैं। इनमें सितंबर-अक्टूबर में बेसलाइन टेस्ट होता है। नवंबर में मिड लाइन टेस्ट व दिसंबर में प्रतिभा पर्व के जरिए उनकी दक्षता का मूल्यांकन किया जाता है। इस वर्ष बेसलाइन टेस्ट नहीं लिया गया, गत वर्ष के परिणामों को ही आधार माना गया है। मिडलाइन टेस्ट नवंबर में हुए थे, लेकिन अब तक परिणाम सार्वजनिक नहीं हो पाए। वहीं राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देश पर प्रतिभा पर्व की तैयारी शुरू कर दी गई है।

राज्य शिक्षा कें्रद ने दिशा निर्देश किया जारी
राज्य शिक्षा केंद्र से इस संबंध में सभी जिला परियोजना समन्वयकों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। जिसमें बताया गया कि प्रतिभा पर्व मूल्यांनक को अंतरराष्ट्रीय मानकों व राष्ट्रीय उपलब्धियों के अनुरूप बनाने के लिए यूनिसेफ के सहयोग से कक्षा 3, 5 व 8 में हिंदी व गणित विषय के मूल्यांकन का स्वरूप तैयार किया गया है। इसमें इस बात का विशेष ख्याल रखा गया है कि बच्चे जीवन की वास्तविक परिस्थितियों का अनुभव करते हुए अर्थात इन्हीं परिस्थतियों में सीखे गए ज्ञान का प्रयोग कर सके। इसमें ज्ञान की बजाय उनकी क्षमता का आंकलन का प्रयास किया गया है।

ये है कार्यकम
12 दिसंबर को सुबह 10.30 से 11 बजे तक प्रार्थना सभा व पूर्व तैयारी, 11 से 1 बजे तक कक्षा-8 हिंदी विशिष्ट, कक्षा-3 व 5 प्रथम भाषा हिंदी विशिष्ट, कक्षा-6 व 7 हिंदी विशिष्ट व गणित की परीक्षाएं होगी। दोपहर 2 से 4 बजे तक कक्षा-8 गणित, कक्षा-1,2 व 4 में हिंदी विशिष्ट व गणित की परीक्षा होगी। 4 से 5.30 तक मूल्यांकन व डाटा इंट्री होगी। 13 दिसंबर को सुबह 11 बजे से 1 बजे अंग्रेजी/संस्कृत की परीक्षा होगी। कक्षा-3 व 5 गणित 4 में पर्यावरण, कक्षा 2 से 4 बजे तक विज्ञान व सामाजिक विज्ञान एवं कक्षा-3 व 5 में पर्यावरण अंग्रेजी/ 1,2 व 4 में अंग्रेजी की परीक्षा होगी। 14 दिसंबर को 10.30 से 5.30 तक बाल सभा, परिणाम घोषणा व सम्मान होगा।

बनेगा रिपोर्ट कार्ड
कक्षा 3, 5 व 8 में अध्यनरत बच्चों की क्षमता आंकलन के लिए राज्य शिक्षा केन्द्र ने यूनिसेफ के सहयोग से पूरा कार्यक्रम निर्धारित किया है। वहीं उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन में भी पूरी पारदर्शिता बरतने के निर्देश दिए हैं। यह भी स्पष्ट किया गया है कि उच्च कक्षाओं को पढ़ाने वाले शिक्षकों से ही मूल्यांकन कार्य कराया जाए। साथ ही प्राप्त अंकों को उसी दिन पोर्टल पर अपलोड कर रेस्पांस शीट में ट्रांस्फर किया जाएगा। ताकि, यूनिसेफ, एआईआर (अमेरिकन इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च) से विश्लेषण कराकर हर स्टूडेंट का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया जाएगा।

Anil singh kushwah
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned