मंडप के नीचे महिलाओं ने पखारे पॉव, नम आखों से दी विदाई

विवाह पंचमी पर नगर के श्रीराम जनकी मंदिर में हुआ विवाह महोत्सव का आयोजन
दोपहर में विदाई गीतों के साथ विदाई, बड़ी संख्या में सुरक्षाबल रहा तैनात

By: Shashikant mishra

Updated: 03 Dec 2019, 01:47 PM IST

पन्ना. विवाह पंचमी के अवसर पर रविवार की शाम को जहां एक ओर गाजे-बाजे के साथ भगवान श्रीराम की बारात निकाली गई थी वहीं दूसरे दिन सोमवार की सुबह से भगवान के पांव पखारे, भामर और विदाई के कार्यक्रम शुरू हो गए जो दोपहर तक चले। दोपहर में विदाई गीतों के साथ सीता माता की विदाई के बाद कार्यक्रम का समापन हो गया।


विवाह पंचमी के दूसरे दिन के कार्यक्रम की शुुरुआत सुबह भगवान की आरती के बाद ही शुरू हो गया। हजारों की संख्या में महिलाओं ने मंदिर पहुंचकर भगवान श्रीराम और माता जानकी के पांव पखारे। पांच पखारने का सिलसिला सुबह १० बजे के बाद भी चलता रहा।दोपहर में पांव पखारने का कार्यक्रम पूरा होने के बाद मातारानी के विदाई की तैयारी शुरू हो गई। दोपहर में महिलाओं के विदाई गीतों के बीच विदाई की रश्म निभाई गई। श्रद्धालु महिलाओं ने नम आंखों से मातासीता को विदाई दी। इसके बाद भगवान की मूर्तियों को मंडप से गर्भगृह में स्थापित किया गया। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे। सबसे अधिक भीड़ महिलाओं की रही। धार्मिक आयोजन को लेकर करीब आधा दर्जन पुलिसकर्मी मंदिर के प्रवेश द्वार में तैनात रहे।


शाम को निकाली थी गाजे-बाजे के साथ बारात
इससे पहले रविवार की शाम को मंदिर परिसर से गाजे-बाजे के साथ भगवान की बारात निकाली गई थी। यह मंदिर परिसर से शुरू होकर नगर के विभिन्न मार्गों से होती हुई देर रात मंदिर परिसर में समाप्त हुई थी। भगवान श्रीराम के विवाह उत्सव के आयोजन को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह रहा है।

Shashikant mishra Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned