रिश्तेदारों का लाड़ बेटी को जिद्दी तो नहीं बना देगा

छह माह की बच्ची को परिवारीजन के साथ घुलने मिलने दें क्योंकि बंदिशें परेशानी का सबब बन जाती हैं। बच्ची का ध्यान रखें। उसे बचपन को अच्छे से जीने दें।

सवाल: मेरी छह माह की बेटी है जिसे परिवार का हर सदस्य बहुत प्यार करता है। मुझे लगता है कि अधिक लाड़, प्यार और खिलौने देकर लोग मेरी बेटी को जिद्दी बना देंगे। मैं ऐसा कुछ नहीं चाहती कि बड़े होने पर वो जो कुछ भी मांगे उसे मैं दे दूं। ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए?

जवाब: आपकी बच्ची छह माह की है और आप अभी से इतना चिंतित हैं। ये सही है कि खिलौने बच्चों की सेहत के लिए ठीक नहीं होते हैं। घर में जब बच्चा होता है तो उसे लाड़ प्यार करने वाले लोगों की संख्या भी अधिक होती है। लोग आपके कहने से बच्ची को तोहफे देना बंद नहीं करेंगे क्योंकि वे उनकी इच्छा है। इस तरह की स्थिति से निपटने के लिए आपके पास दो तरीके हैं। पहला जैसा चल रहा वैसा चलने दें और बिलकुल भी चिंता न करें। जो लोग तोहफे दे रहे हैं उसे खुशी से स्वीकार करें। अगर आपको ये तोहफे नहीं चाहिए तो किसी और को दे दें इसमें कोई बुरा नहीं मानेगा पर आप तोहफे लेने से मना नहीं करेंंगी। छह माह की बच्ची को परिवारीजन के साथ घुलने मिलने दें क्योंकि बंदिशें परेशानी का सबब बन जाती हैं। बच्ची का ध्यान रखें। उसे बचपन को अच्छे से जीने दें।

आपकी बच्ची इससे जिद्दी हो जाएगी तो ऐसा बिलकुल नहीं है। बच्चे को जिद्दी नहीं होने देना चाहते हैं तो उसे जिद्दी बनाने की कोशिश भी न करें। अगर आपका बच्चा रोता है तो उसे रोने दें इससे उसे अपने भाव व्यक्त करने की सीख मिलेगी। उसे बंदिशों में शुरू से ही रखने की कोशिश करेंगे तो बुरा असर पड़ेगा। अभी आपको ये भी नहीं पता कि बेटी का स्वभाव कैसा है? उसे अभी बड़ा होने दें।

मेघन लीह, पैरेंट कोच, वाशिंगटन पोस्ट से विशेष अनुबंध के तहत

manish singh
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned