चौथे चरण के लोकसभा चुनाव में छह दलों के इन दिग्गज नेताओं की किस्मत दांव पर

चौथे चरण के लोकसभा चुनाव में छह दलों के इन दिग्गज नेताओं की किस्मत दांव पर
leaders

Prateek Saini | Publish: Apr, 25 2019 07:00:00 AM (IST) Patna, Patna, Bihar, India

विशेष संवाददाता प्रियरंजन भारती की रिपोर्ट...

 

(पटना): लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर राजनीतिक दलों के दिग्गजों की किस्मत दांव पर लगी है। पहले, दूसरे और तीसरे दौर की कुल चौदह लोकसभा सीटों से अलग अगले चरण के चुनाव की विशेष अहमीयत इसलिए है कि इस दौर में कई दलों के दिग्गज नेताओं के भाग्य की आजमाइश होनी है।


भाजपा, जदयू, आरजेडी, रालोसपा, कांग्रेस, सीपीआई और लोजपा के लिए इस दौर का चुनाव बेहद खास है। इस चरण में कुल 66 प्रत्याशी मैदान में हैं। इनमें भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, जदयू के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और राज्य के मौजूदा जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, भाजपा के बड़े हिंदूवादी चेहरा और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, कांग्रेस के दलित चेहरा अशोक राम और सीपीआई के युवा नेता कन्हैया कुमार के चुनाव मैदान में होने से दूर तक सबकी निगाहें टिकी हैं। आरजेडी के शीर्ष नेताओं में अहम अब्दुल बारी सिद्दीकी और रामविलास पासवान के भाई रामचंद्र पासवान को लेकर भी जनता को इसी दौर में फैसला करना है।


इस दौर में दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर लोकसभा क्षेत्रों में 29 अप्रैल को मतदान होगा। मोदी मुद्दे पर हो रहे चुनाव में उम्मीदवार जी जान से अपनी जीत सुनिश्चित करने में लगे हुए हैं। दरभंगा में पार्टी की अंदरूनी जंग के बीच ही आरजेडी ने अपने स्टार प्रचारक अब्दुल बारी सिद्दीकी को उम्मीदवार बनाया। कांग्रेस में शामिल हुए कीर्ति आजाद के लिए सीट छोड़ने पर आरजेडी कतई तैयार नहीं हुई। इनके खिलाफ पूर्व सांसद और मंत्री एम एम फातमी ने बगावत कर बसपा के चुनाव चिन्ह पर उम्मीदवारी ठोंक दी। हालांकि बाद में अन्य संगठनों के समझाने पर उन्होंने नाम वापस भी ले लिए। पर आरजेडी का दामन सिरे से छोड़ दिया। पिछले चुनाव में सिद्दीकी मधुबनी में हुकुमदेव नारायण यादव के मुकाबले दूसरे नंबर पर रहे थे। मुस्लिम, यादव, मैथिली ब्राह्मण और मल्लाह जातियों की बहुलता वाले इस क्षेत्र में भाजपा ने अपने एक सधे कार्यकर्ता गोपालजी ठाकुर को पहली बार मैदान में उतारा है। इनके पक्ष में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी रैली करने पहुंच रहे हैं। मुकाबला कितना रोचक है, इसका आकलन इसी बात से किया जा सकता है कि स्टार प्रचारक होने के बावजूद अब्दुल बारी सिद्दीकी क्षेत्र छोड़ बाहर नहीं निकल पा रहे।


उजियारपुर में भाजपा के निवर्तमान सांसद और प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय से रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा की सीधी टक्कर है। कुशवाहा पहले एनडीए में थे पर इस बार महागठबंधन का हिस्सा बनकर भाजपा से लोहा ले रहे हैं। अब जदयू का साथ भी भाजपा को मिल रहा है। कुशवाहा के एनडीए से बाहर आने के मुद्दे पर उनकी कुशवाहा जाति के लोग ही सिरे से खफा हैं जिसका परिणाम उन्हें चुनाव में झेलना पड़ेगा। इस सीट पर सीपीएम के अजय राय भी चुनाव मैदान में ताल ठोंक रहे हैं।


समस्तीपुर में दोनों ही उम्मीदवार वे ही हैं जो पिछले लोकसभा चुनाव में आमने सामने थे। पिछले 2014 के चुनाव में महज़ 6872 वोट के अंतर से हारे कांग्रेस के अशोक राम इस दफा लोजपा उम्मीदवार और रामविलास पासवान के भाई रामचंद्र पासवान से हार का बदला लेने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ना चाहते। एनडीए भी पासवान की जीत के लिए शिद्दत से लगा हुआ है।


बेगूसराय की चुनावी जंग भी राष्ट्रीय महत्व की हो गई है। सीपीआई के युवा लीडर कन्हैया कुमार के चुनाव मैदान में पहली बार उतर आने से राष्ट्रीय स्तर की फिल्मी हस्तियां और सेक्यूलर-वामपंथी नेता प्रचार में आने लगे हैं। आरजेडी ने छात्र आंदोलन के नेता तनवीर हसन को उम्मीदवार बनाया है। जबकि भाजपा के फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह प्रधानमंत्री मोदी और विकास के नाम पर ताल ठोंक रहे हैं। लड़ाई रोचक और आरपार की ठनी है। इसमें हारजीत का फैसला अंततः गिरिराज और तनवीर हसन के बीच ही सिमट जाने वाला दिखता है।


मुंगेर में बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी और एनडीए उम्मीदवार ललन सिंह के बीच निर्णायक लड़ाई है। ललन सिंह बिहार सरकार के मौजूदा जल संसाधन मंत्री और नीतीश कुमार के बेहद ही भरोसे के नेता हैं। इनके लिए प्रचार में एनडीए ने पूरी ताकत झोंक दी है। इधर अनंत सिंह अपनी ओर से पूरा जोर लगाए हुए हैं। चौथे चरण के मतदान के साथ ही सभी दिग्गजों का भविष्य ईवीएम में कैद हो जाएगा। प्रचार का शोर थमने तक सभी पूरी जोर आजमाइश में जुटे हुए हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned