बिहार विधानसभा चुनाव: पहले ही तय हो जाएगी एनडीए की सीट शेयरिंग

Bihar news: एक साल के अंदर विधानसभा चुनावों में लगे झटकों से सतर्ट भाजपा बिहार में समय से ही सीट शेयरिंग तय करने की तैयारी में है। महाराष्ट्र में लगे झटके से सावधान भाजपा सीटों के बंटवारे से लेकर मुख्यमंत्री पद की स्थिति पहले ही साफ कर देगी।

By: Navneet Sharma

Published: 06 Jan 2020, 05:17 PM IST

पटना. प्रियरंजन भारती
एक साल के अंदर विधानसभा चुनावों में लगे झटकों से सतर्ट भाजपा बिहार में समय से ही सीट शेयरिंग तय करने की तैयारी में है। महाराष्ट्र में लगे झटके से सावधान भाजपा सीटों के बंटवारे से लेकर मुख्यमंत्री पद की स्थिति पहले ही साफ कर देगी।
भाजपाध्यक्ष अमित शाह पहले ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एनडीए का अगला मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित कर चुके हैं।पिछले चुनाव में जदयू,आरजेडी और कांग्रेस के महागठबंधन के मुकाबले भाजपा, लोजपा, रालोसपा व जीतनराम मांझी के साथ गठबंधन कर चुनाव में उतरी थी और नतीजा प्रतिकूल निकला था।तब से अब हालात बदल चुके हैं।जदयू भाजपा के साथ सरकार का हिस्सा है और मांझी व उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा महागठबंधन में शामिल है।लोकसभा चुनावों में ही जदयू भाजपा और लोजपा में सीट शेयरिंग से स्थिति काफी हद तक साफ हो चुकी है।अब महाराष्ट्र और झारखंड के झटकों से सतर्क भाजपा पहले ही सारे मसले सलट कर चुनाव में उतरने जा रही है।भाजपा कोई नया प्रयोग नहीं करने जा रही।

सीटों पर नहीं होगा विवाद
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष देवेश कुमार कहते हैं कि सीटों को लेकर दोनों दलों में बराबर की स्थिति रहेगी लेकिन चुनाव में गठबंधन का चेहरा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही रहेंगे।सहयोगी दल लोजपा को दोनों दल मिलकर सीटें छोड़ेंगे।जदयू की तरफ से अधिक सीटों की मांग यदि हुई तो भाजपा चिंतित भी नहीं होगी।हालांकि सूत्र बताते हैं कि जदयू भाजपा बराबर बराबर सीटों पर तालमेल को सहमत है।जदयू प्रवक्ता और सरकार के मंत्री नीरज कुमार की मानें तो सीटों पर कोई विवाद कतई नहीं होने वाला।

नीतिगत मुद्दों पर नहीं होगी बयानबाजी
भाजपा के एक बड़े नेता के.अनुसार दोनों दलों की ओर से नीतिगत मुद्दों पर कोई बयानबाजी नहीं होगी।इस बारे में भाजपा नेतृत्व ने प्रदेश के नेताओं को कड़े निर्देश दिए हैं।हाल में जदयू नेता प्रशांत किशोर के बयानों पर भाजपा ने कड़ी प्रतिक्रिया दी पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इन्हें अधिक महत्व न देकर स्थिति साफ कर दी और अपने दल के.नेताओं को प्रतिक्रिया में न बोलने की.हिदायतें दीं।
भाजपा बिहार चुनाव को लेकर अधिक संजीदा है ।इसलिए भी कि यहां बने माहौल का पड़ोसी पश्चिम बंगाल पर सीधा असर पड़ेगा जहां 2021में विधानसभा चुनाव होने हैं।

Navneet Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned