बाढ़ बनी बैरन: झूमकर बरसी बरखा, अब चारों ओर मदद की दरकार

बाढ़ बनी बैरन: झूमकर बरसी बरखा, अब चारों ओर मदद की दरकार
(FLOOD IN BIHAR)

Satyendra Porwal | Updated: 02 Sep 2019, 08:40:18 PM (IST) Patna, Patna, Bihar, India

बिहार में बाढ़ (FLOOD IN BIHAR) बड़ा नुकसान-टीम। केन्द्र की सात सदस्यीय टीम ने किया दौरा।

(पटना). बिहार के कई जिलों में जमकर आई बारिश व उसके बाद बाढ़ (FLOOD IN BIHAR) से हर खास व आम परेशान है। केन्द्र की आपदा प्रबन्धन टीम (DISASTER MANAGEMENT TEAM) (DMT) बाढ़ के बाद हालातों का जायजा लिया व सहायता राशि भी उपलब्ध कराई है। करीब 22.90 लाख लोगों के खातों में छह-छह हजार रुपए दिए गए हैं, लेकिन अभी भी बाढ़ प्रभावित दो लाख लोगों को सहायता राशि का इंतजार है। प्रकृति यहां इतना बरसी कि लोगों ने यह बोलना शुरू कर दिया है कि बरखा रानी यहां जम के नहीं थम के बरसो। पत्रिका की खास रिपोर्ट-

कटिहार, दरभंगा और मधुबनी का लिया जायजा
बिहार में बाढ़ से नुकसान का जायजा लेने आई सात सदस्यों वाली केन्द्रीय टीम ने माना कि सूबे में बाढ़ से भारी क्षति हुई है। टीम का यह भी कहना है कि नुकसान के एवज में राज्य सरकार ने कम सहायता राशि मांगी है। कटिहार, दरभंगा और मधुबनी का जायजा लेने के बाद दिल्ली लौटने से पूर्व केन्द्रीय टीम ने बिहार के अधिकारियों के साथ बैठक की। टीम ने नुकसान से जुड़े और आंकड़ों की मांग की है। बताया गया कि आपदा प्रबंधन विभाग (DISASTER MANAGEMENT DEPARTMENT) (DMD) नए आंकड़ों के साथ मंगलवार को फिर से ज्ञापन सौंपेगा। अनुमान है कि इस बार मांगी गई 2700 करोड़ से अधिक सहायता की मांग की जा सकती है।

बिहार में बाढ़ ने बढ़ा दी बर्बादी

झूमकर बरसी बरखा

तबाही का जायजा लेने गृह मंत्रालय के एनडीएमए (NATIONAL DISASTER MANAGEMENT AUTHORITY) के संयुक्त सचिव रमेश कुमार के नेतृत्व में सात सदस्यीय टीम 28 अगस्त को ही बिहार आई थी। टीम ने 31 अगस्त तक बाढ़ प्रभावित तीन जिलों का सर्वे करने के बाद राज्य के अधिकारियों के साथ बैठक की। टीम की बैठक दर्जन भर विभागों के साथ हुई। टीम ने कहा कि बाढ़ से भारी तबाही हुई है। प्रखंड वार क्षति का ब्योरा मांगा गया है। जिन इलाकों में सड़कें टूटीं उनकी लम्बाई, जहां नदियों से गाद जमा हो गए, उनका ब्योरा साथ देने को कहा गया है।

सकारात्मक रहा दौरा-आपदा प्रबन्धन विभाग
केन्द्रीय टीम के बिहार दौरे को आपदा प्रबंधन विभाग ने सकारात्मक बताया है। विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि टीम ने बिहार में हुई तबाही को माना है। उन्होंने कहा कि आरम्भिक आंकड़ों के साथ ज्ञापन सौंपा था। संशोधित आंकड़ों के साथ मंगलवार तक ज्ञापन सौंप दिया जाएगा।

छह-छह हजार रुपए प्रभावितों के खातों में
गौरतलब है कि बिहार में बाढ़ से नुकसान की सहायता में केन्द्र से 2700करोड़ की राशि मांगी थी। बाढ़ से हताहत हुए लोगों के परिजनों के खाते में छह-छह हजार रुपए जमा किए जा रहे हैं। अब तक 22.90 लाख परिवारों के खाते में 1374 करोड़ दिए गए हैं। अभी दो लाख और परिवारों के खाते में यह राशि मिलने का अनुमान है। आपदा प्रबंधन विभाग ने इस मद में 1555 करोड़ की मांग की है। कृषि विभाग ने 354करोड़, जल संसाधन विभाग ने 306करोड़, पथ निर्माण ने 342 करोड़, ग्रामीण कार्य ने 18 करोड़ तथा ऊर्जा विभाग ने 15 करोड़ रुपए की मांग कर रखी है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned