दागियों के टिकट काट रहे दल, परिजनों पत्नियों को बनाया जा रहा उम्मीदवार

(Patna news ) चुनावी चौसर पर (Bihar assembly election ) बिसातें बिछाने में राजनीतिक पार्टियां फूंक-फूंक कर कर कदम उठा रही हैं। भाजपा जदयू ने कई पुराने उम्मीदवार (Cutiing tickets tainted) बदल दिए हैं जबकि आरजेडी ने कई दागी (Tainted wives-relatives getting tickets ) उम्मीदवारों की जगह उनके परिजनों और पत्नियों को मैदान (Bihar News ) में उतार दिया है।

By: Yogendra Yogi

Published: 05 Oct 2020, 05:57 PM IST

पटना(प्रियरंजन भारती): (Patna news ) चुनावी चौसर पर (Bihar assembly election ) बिसातें बिछाने में राजनीतिक पार्टियां फूंक-फूंक कर कर कदम उठा रही हैं। भाजपा जदयू ने कई पुराने उम्मीदवार (Cutiing tickets tainted) बदल दिए हैं जबकि आरजेडी ने कई दागी (Tainted wives-relatives getting tickets ) उम्मीदवारों की जगह उनके परिजनों और पत्नियों को मैदान (Bihar News ) में उतार दिया है।

सजायाफ्ता की पत्नी को टिकट
आरजेडी ने कई सीटों पर दागी उम्मीदवारों के टिकट काट दिए। नवादा से विधायक राजवल्लभ यादव नाबालिग से रेप के मामले में आजीवन कारावास की सजा मिलने के बाद पार्टी से निलंबित कर दिए गए थे। पार्टी ने इनकी जगह पत्नी विभा देवी को उम्मीदवार बनाया है। 2016 में नाबालिग से रेप के एक मामले में अदालत ने यादव को आजीवन कारावास और 50 हजार जुर्माने की सजा सुनाई थी। यादव अभी जेल में हैं। पार्टी से निलंबित राजवल्लभ यादव की जगह उनकी पत्नी विभा देवी को मैदान में उतार दिया।

रेप में फरार आरोपी की पत्नी को टिकट
इसी तरह भोजपुर के संदेश सीट से रेप के आरोपी फरार विधायक अरुण कुमार यादव की जगह आरजेडी ने इस बार उनकी पत्नी किरण देवी को मैदान में उतार दिया है। पार्टी ने इसके अतिरिक्त क सीटों पर उम्मीदवार ऐसे खड़े किए हैं जिन पर किसी तरह का आरोप न हो और जो कड़े मुकाबले में भी जीत सके।

बाहुबली विधायक ददन की कटी टिकट
जदयू और भाजपा ने भी दागियों के टिकट काट दिए हैं। डुमरांव से पूर्व बाहुबली विधायक ददन पहलवान की जगह पाटीज़् नेत्री अंजुम आरा को जदयू ने उम्मीदवार बनाया है। गोपालगंज सीट पर पूवज़् बाहुबली विधायक अमरेंद्र पांडेय की जगह जदयू ने उनके दूसरे परिजन को मैदान में उतारा गया है। पार्टी अभी कई और सीटों पर उम्मीदवारों का फेरबदल कर रही है। इधर भाजपा ने भी कई पुराने चेहरों को पीछे कर दिया है। नहीं जीत सकने वाले उन अनेक उम्मीदवारों के टिकट काट दिए गए हैं जिनका फीडबैक अच्छा नहीं पाया गया।

कपंनी के लोन से हेलीकॉप्टर यात्रा
ददन पहलवान बिहार के कई सियासी दलों में रहे हैं। पहले वह पहलवानी करते थे। अब सियासी अखाड़े में दांव अजमाते हैं। टिकट कटने पर ददन पहलवान की तरफ से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। 2018 में समीक्षा यात्रा के दौरान नीतीश कुमार के ऊपर ददन पहलवान के क्षेत्र में ही पत्थरबाजी हुई थी। नोटबंदी के दौरान ददन पहलवान खूब सुर्खियों में थे। उन्होंने एक कंपनी से लिए लोन को नहीं चुकाया था। जवाब में ददन ने कहा था कि वो राशि 2014 के लोकसभा चुनाव में हेलीकॉप्टर उड़ाने में खर्च कर दी।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned