सृजन घोटाले में बैंक अधिकारियों पर कार्रवाई की तैयारी

Srajan ghotala: दि भागलपुर सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के पांच सहायक प्रबंधक और पूर्व प्रबंध लेखा-पदाधिकारी पर कार्रवाई की तलवार लटकी है। जल्द ही विभागीय कार्रवाई के लिए प्रस्ताव भेजा जाएगा। इस बैंक से पचास करोड़ से अधिक निकासी की गई थी। यह राशि इंडियन बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के खातों में जमा करा दी गई थी।

Navneet Sharma

October, 1505:38 PM

Patna, Patna, Bihar, India

भागलपुर. सृजन घोटाले में बैंक अधिकारियों पर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। दि भागलपुर सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के पांच सहायक प्रबंधक और पूर्व प्रबंध लेखा-पदाधिकारी पर कार्रवाई की तलवार लटकी है। जल्द ही विभागीय कार्रवाई के लिए प्रस्ताव भेजा जाएगा। इस बैंक से पचास करोड़ से अधिक निकासी की गई थी। यह राशि इंडियन बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के खातों में जमा करा दी गई थी।
दि भागलपुर सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक के प्रबंध निदेशक एम जेड अंसारी ने बताया कि दूसरे बैंक में जमा की जा रही राशि की मॉनिटरिंग करने की जिम्मेदारी बैंककर्मियों की है। अगर सहायक प्रबंधन या प्रबंधन(लेखा)जमा राशि की मॉनिटरिंग करते तो अवैध निकासी नहीं हो पाती। लेकिन लापरवाही बरती गई। सृजन महिला विकास समिति के इस बैंक खाते से दूसरे बैंकों के जरिए भी धड़ल्ले से जमा और निकासी की गई। तत्कालीन बैंक अधिकारियों को इसकी इसकी निगरानी करनी चाहिए थी जो नहीं की गई।
प्रबंध निदेशक ने बताया कि तत्कालीन जिला सहकारिता पदाधिकारी पंकज झा और कवीन्द्र ठाकुर के अलावा आठ सहायक निदेशक और प्रखंड सहकारिता पदाधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की सुनवाई चल रही है। इनमें से अधिकांश सबौर में सहकारिता पदाधिकारी रह चुके हैं।
बैंक के प्रबंध निदेशक ने बताया कि अभी और परतें खुल रही हैं। कई और लोगों पर गाज गिर सकती है। प्रबंध निदेशक अंसारी विभागीय कार्रवाई के संचालन पदाधिकारी की हैसियत से और भी पड़ताल में जुटे हैं।

Navneet Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned