उपेंद्र कुशवाहा के इस्तीफे के लग रहे कयास, जदयू-लोजपा की तल्ख टिप्पणियां जारी

उपेंद्र कुशवाहा के इस्तीफे के लग रहे कयास, जदयू-लोजपा की तल्ख टिप्पणियां जारी

Prateek Saini | Publish: Dec, 01 2018 08:35:45 PM (IST) Patna, Patna, Bihar, India

मोतिहारी के पकड़ीदयाल में पार्टी कार्यकर्ता की हत्या के बाद परिजनों को संत्वना देने पहुंचे कुशवाहा ने मीडिया से कहा कि मैंने अपनी ओर से भरसक प्रयास किए...

(पत्रिका ब्यूरो,पटना): एनडीए में सीट शेयरिंग के सवाल पर भाजपा नेतृत्व से बातचीत की डेडलाइन समाप्त हो जाने के बाद रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा ने तल्खी दिखाते हुए कहा कि 'विनाशकाले विपरीत बुद्धि'। मोतिहारी पहुंच उपेंद्र कुशवाहा ने कवि दिनकर के लोकप्रिय काव्य रश्मि रथी की पंक्तियां पढ़ीं-जब नाश मनुज पर छाता है,पहले विवेक मर जाता है।


मोतिहारी के पकड़ीदयाल में पार्टी कार्यकर्ता की हत्या के बाद परिजनों को संत्वना देने पहुंचे कुशवाहा ने मीडिया से कहा कि मैंने अपनी ओर से भरसक प्रयास किए। उन्होंने प्रधानमंत्री से मिलकर बातचीत करने की तिथि 30नवंबर तक रखी थी। अब इसके बीत जाने के बाद कहा कि एनडीए में रहने या नहीं रहने का फैसला पार्टी की पांच—छह दिसंबर को होने वाली बैठक में किया जाएगा। इससे पहले कुशवाहा ने भाजपाध्यक्ष अमित शाह से मिलने के प्रयास किए पर नाकाम रहे थे। फिर प्रधानमंत्री से भी बात करने में वह असफल रहे। इस बीच कुशवाहा के मंत्री पद से इस्तीफे की अटकलों के बीच सियासी पारा गरम रहा। जदयू और लोजपा ने तल्ख टिप्पणियां कीं।जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि कुशवाहा जहां जान है,जाएं। इससे एनडीए को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। एनडीए सरकार बहुत अच्छी तरह चल रही है।


लोजपा के उपाध्यक्ष श्रीभगवान सिंह कुशवाहा ने कहा,एनडीए जैसा महत्व महागठबंधन में नहीं मिलने जा रहा। तीन सीटें जीतकर भी पार्टी का एक मंत्री बना जबकि लोजपा ने छह सीटें जीतीं।फिर भी केंद्र में पार्टी का एक ही मंत्री बन सका। कहा कि एनडीए में उन्हें अधिक महत्व मिला है। यह रूतबा महागठबंधन में कायम नहीं रह सकता। इधर भाजपा को अब भी उम्मीद है कि कुशवाहा मान जाएंगे। पार्टी नेता मिथिलेश तिवारी ने कहा कुशवाहा सुलझे हुए नेता हैं। वह मान जाएंगे।

 

Ad Block is Banned