शहर में हुई वरमाला के बाद दुल्हन ने लौटा दी बारात, जानिए ऐसा क्यों हुआ

Laxmi Kant Tiwari

Publish: May, 23 2019 11:19:39 PM (IST)

Damoh, Damoh, Madhya Pradesh, India

दमोह. २३ मई को पूरे देश में चुनावी चहल-पहल चल रही थी। लेकिन इस बीच शादियों की तिथि होने के कारण जिले भर में शादी-विवाह भी जमकर होते रहे। शहर के ही लोको क्षेत्र में भी चुनावी चकल्लस के बीच एक पटैल परिवार में बेटी की शादी हो रही थी। लेकिन इस बीच जब दूल्हेे के चचेरे भाई ने दहेज में बाइक देने की मांग की, तो दुल्हिन ने शादी करने से ही इन्कार कर दिया। बाद में मामला पुलिस में पहुंचा और जांच शुरू की गई।
दरअसल शहर के लोको क्षेत्र में मलैयामील समीप रहने वाले फूलचंद पटैल की बेटी जानकी का विवाह जोरतला गांव निवासी हीरालाल पटैल के साथ हो रहा था। गुरुवार को बारात लोको पहुंची थी। दूल्हा-दुल्हिन की जयमाला बगैरह हो चुकी थी। बाद में कन्यादान का कार्यक्रम होने वाला था। लेकिन इसी बीच दूल्हा के चाचा व चचेरे भाई ने कन्यादान का नेंग होने से रोक दिया। उन्होंने कहा कि पहले मोटर साइकल व सोने की चैन की मांग देहज में करने लगे। जिसे देने में अपने आप को असमर्थ साबित होने पर वधु पक्ष ने दहेज देने से मना कर दिया तो वर पक्ष वहां से उठकर वापस जाने लगा। जिसके बाद वर पक्ष ने गालियां देते हुए अभद्र व्यवहार किया। जिससे अपना समाज में अपमान होने पर आरोपी वर पक्ष के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग दुल्हिन के पिता फूलचंद ने लिखित आवेदन देकर सागरनाका पुलिस चौकी में की है।
एसपी के कहने पर लिया आवेदन -
सागरनाका पुलिस चौकी पहुंचे वधु पक्ष से जब आवेदन लेने से मना कर दिया तो उन्होंने फोन पर एसपी को सूचना दी। जिसके बाद एसपी ने चौकी प्र्रभारी को तत्काल जांच करते हुए आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने के निर्देश दिए। बाद में चौकी प्रभारी ने आवेदन लेकर जांच शुरू की। इस बीच दूल्हा सहित अन्य परिजन व बाराती सागरनाका पुलिस चौकी में ही बैठे रहे। देर रात तक पुलिस मामले की जांच में जुटी थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned