इस तीर्थ में छुपा हुआ है भगवान कृष्ण के देह त्यागने का राज़

इस तीर्थ में छुपा हुआ है भगवान कृष्ण के देह त्यागने का राज़

Tanvi Sharma | Publish: Jan, 04 2019 06:33:45 PM (IST) | Updated: Jan, 04 2019 06:33:46 PM (IST) तीर्थ यात्रा

इस तीर्थ में छुपा हुआ है भगवान कृष्ण के देह त्यागने का राज़

सोमनाथ मंदिर से करीब 5 किलोमीटर दूर वेरावल में भालका तीर्थ स्थल है। इस तीर्थ स्थल का हिंदू धर्म में बहुत अधिक महत्व है। लोक कथाओं के अनुसार कहा जाता है की इस मंदिर में श्री कृष्ण नें अपना देह त्यागा था। भालका तीर्थ भगवान श्री कृष्ण के अंतिम सांस का साक्षी माना जाता है, लेकिन भक्तों का मानना है की इस पवित्र स्थान में भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। इस प्रमुख धार्मिक केंद्र के बारे में यहां हर रोज़ आने वाले श्रृद्धालु बताते हैं की सच्चे मन से यहां मांगी गई हर मुराद पूरी होती है। यहां आया हुआ कोई भक्त खाली हाथ नहीं लौटता। क्योंकि यहां श्री कृष्ण के होने का अहसास हमेशा होता है, इसका साक्षी यहां मौजूद 5 हजार साल पुराना पीपल का पेड़ है जो कभी नहीं सूखता।

 

bhalka teerth

लोक कथाओं के अनुसारमहाभारत युद्ध खत्म होने के बाद 36 साल बाद तक यादव कुल मद में आ गए। आपस में ही झगडऩे लगे और एक दूसरे को ही खत्म करने लगे। इसी कलह से परेशान होकर कृष्ण सोमनाथ मंदिर से करीब सात किलोमीटर दूर वैरावल की इस जगह पर विश्राम करने आ गए। ध्यानमग्र मुद्दा में लेटे हुए थे कि वहां से करीब एक किलोमीटर की दूरी पर मौजूद जरा नाम के भील को कुछ चमकता हुआ नजर आया। उसे लगा कि यह किसी मृग की आंख है और बस उस ओर तीर छोड़ दिया, जो सीधे कृष्ण के बाएं पैर में जा धंसा। जब जरा करीब पहुंचा तो देखकर रुदन करने लगा, उसके वाण से खुद कृष्ण घायल हुए थे। जिसे उसने मृग की आंख समझा था, वह कृष्ण के बाएं पैर का पदम था, जो चमक रहा था। भील जरा को समझाते हुए कृष्ण ने कहा कि क्यों व्यर्थ ही विलाप कर रहे हो, यह नियति है।

 

bhalka teerth

ऐसे कहलाया भलका तीर्थ

भगवान श्री कृष्ण ने व्याघ को क्षमा कर दिया और अपनी कान्ती से वसुंधरा को व्याप्त करके निजधाम प्रस्थान कर गए। यहां व्याध ने भगवान श्री कृष्ण जी को भल्ल यानी बाण मारा था इसीलिए यह स्थान भल्ल भलका तीर्थ कहा जाता है।

कैसे पहुंचे भलका तीर्थ

कैसे करें प्रवेश आप भालका तीनों मार्गों से आसानी से पहुंच सकते हैं। यह तीर्थ स्थान अच्छी तरह रेल/ सड़क/ वायु मार्गों से जुड़ा हुआ है। यहां का नजदीकी रेलवे स्टेशन वेरावल है। हवाई मार्ग के लिए आप राजकोट /केशोद हवाई अड्डे का सहारा ले सकते हैं। आप चाहें तो यहां सड़क मार्गों से भी पहुंच सकते हैं। भालका गुजरात के बड़े शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned