Ganesh Chaturthi 2019: ये हैं भारत के 10 प्रमुख गणेश मंदिर

Ganesh Chaturthi 2019: ये हैं भारत के 10 प्रमुख गणेश मंदिर

Devendra Kashyap | Publish: Aug, 26 2019 05:05:47 PM (IST) | Updated: Aug, 26 2019 05:05:48 PM (IST) तीर्थ यात्रा

Ganesh Chaturthi 2019: हमारे देश में भगवान गणेश के कई मंदिरें हैं। हर मंदिर की अलग-अलग मान्यताएं है।

हमारे देश में भगवान गणेश ( Lord Ganesha ) के कई मंदिरें हैं। हर मंदिर की अलग-अलग मान्यताएं है। Ganesh Chaturthi 2019 के मौके पर हम आपको भगवान गणेश की 10 मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में मान्यता है कि दर्शन मात्र से ही सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है...

shri_siddhi_vinayak_ganpati_mandir.jpg

Shri Siddhi Vinayak Ganpati Mandir

यह मंदिर भगवान गणेश के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। मान्यता के अनुसार, यह मंदिर निसंतान महिला की आस्था पर बनवाया गया है। यहां हर लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते है। यह मंदिर मुंबई में स्थित है।

dagadusheth_halwai_ganapati_temple.jpg

Dagadusheth Halwai Ganapati Temple

Siddhi Vinayak Ganpati Mandir के बाद श्रीमंत दगडूशेठ हलवाई मंदिर दूसरा सबसे प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर महाराष्ट्रा के पुणे में है। यहां पर भी लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। बताया जाता है कि इस मंदिर का निर्माण दगडूशेठ नाम के हलवाई ने बनवाया था जब उनके बेटे की मृत्यु प्लेग के कारण हो गई थी।

vinayaka_temple_kanipakam.jpg

Vinayaka Temple, Kanipakam

यह मंदिर आंध्र प्रजेश के चित्तूर जिले में स्थित है। मान्यता है कि यहां आने वाले श्रद्धालु अपने पाप धोने के लिए मंदिर के पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं, इसके बाद भगवान गणेश का दर्शन करते हैं।

arulmigu_manakula_vinayagar_temple.jpg

Arulmigu Manakula Vinayagar Temple

मनकुला विनायक मंदिर प्राचीन मंदिरों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण 1666 साल पहले बनवाया गया था। जब पुडुचेरी फ्रांस के अधीन था। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां स्थित भगवान गणेश की प्रतिमा को कई बार समुद्र में फेंक दिया गया था, लेकिन प्रतिमा उसी स्‍थान पर फिर से हर दिन प्रकट हो जाती थी। यहां गणेश चतुर्थी धूमधाम से मनाया जाता है।

madhur_mahaganpati_mandir.jpg

Madhur Mahaganpati mandir

मधुर महागणपति मंदिर, केरल में स्थित है। 10वीं शताब्दी में बना यह मंदिर अति प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर मधुवाहिनी नदी के किनारे स्थित है। यहां स्थित गणेश की मूर्ति के बारे में कहा जाता है कि यह अलग प्रकार के तत्व से बनी है। यह न तो मिट्टी की है और न ही किसी पत्थर की। यहां पर भगवान गणेश के अलावा भगवान शिव की भी मूर्ति स्थापित है।

trinetra_ganesh_temple_ranthombore.jpg

Trinetra Ganesh Temple Ranthombore

रणथंबौर गणेश मंदिर राजस्थान के सवाई माधोपुर जिला मुख्यालय से 13 किलोमीटर दूर पर स्थित है। एक हजार साल पुराना यह मंदिर रणथंबौर किले में सबसे ऊंचाई पर स्थित है। यहां आने वाले श्रद्धालु भगवान गणेश के त्रिनेत्र स्वरुप का दर्शन करते हैं।

moti_dungri_ganesh_ji_temple.jpg

Moti Dungri Ganesh Ji Temple

राजस्थान के जयपुर में कई प्रसिद्ध गणेश मंदिर हैं। प्राचीन व प्रमुख गणेश मंदिरों में से एक है मोती डूंगरी गणेश मंदिर, जो की लोगों की आस्था का प्रमुख केंद्र है। इस मंदिर का निर्माण सेठ जय राम पालीवाल ने 18वीं शताब्‍दी में कराया था।

ganesh_tok.jpg

Ganesh Tok, Gangtok

गणेश टॉक मंदिर गंगटोक के प्रसिद्ध टूरिस्‍ट स्‍पॉट में से एक यह मंदिर अपनी खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है। भगवान गणेश का यह मंदिर यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए आस्था का प्रमुख केंद्र है।

ganpatipule_temple_ratnagiri_maharashtra.jpg

Ganpatipule Temple Ratnagiri Maharashtra

गणपतिपुले मंदिर महाराष्ट्र राज्य में रत्नागिरि के एक छोटे से गांव में स्थित है। यहां पर भगवान गणेश की मूर्ति उत्तर दिशा में न होकर पश्चिम की ओर मुख है। मान्यता है कि भगवान गणेश की प्रतिमा यहां स्वयं प्रकट हुई है।

ucchi_pillayar_temple.jpg

Ucchi Pillayar Temple

भगवान गणेश के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक उच्ची पिल्लयार मंदिर तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली ( त्रिचि ) नामक स्थान पर रॉक फोर्ट पर स्थित है। मान्यता के अनुसार, इस मंदिर की कहानी रावण के भाई विभीषण से जुड़ी है। कहा जाता है कि विभीषण ने एक बार भगवान गणेश पर वार किया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned