इस मंदिर में है विश्व का सबसे बड़ा गलियारा, कुंड में नहाने से दूर हो जाते हैं रोग

इस मंदिर में है विश्व का सबसे बड़ा गलियारा, कुंड में नहाने से दूर हो जाते हैं रोग

Tanvi Sharma | Updated: 29 Jul 2019, 01:24:05 PM (IST) तीर्थ यात्रा

इस मंदिर में विश्व का सबसे बड़ा है गलियारा, कुंड में नहाने से दूर हो जाते हैं रोग

हिंदुओं के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक रामेश्वरम मंदिर बहुत ही विशाल व प्रसिद्ध मंदिर है। यह पवित्र तीर्थस्थल तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में स्थित है। मंदिर में स्थापित शिवलिंग बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक शिवलिंग माना जाता है। भगवान शिव को समर्पित रामेश्वरम् ज्योतिर्लिंग देशभर में प्रसिद्ध तीर्थस्थल है। मान्यताओं के अनुसार यहां मौजूद शिवलिंग शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के लिए बहुत शुभ माना जाता है। रामेश्वरम में हर साल लाखों श्रृद्धालु दर्शन के लिए पहुंचते है। सावन के महीने में इस मंदिर की विशेषताएं ओर भी अधिक हो जाती है। भगवान श्री रामनाथस्वामी को मुख्य रूप से शिवलिंग के रूप में पूजा जाता है।

 

rameshwaram jyotirling

145 खम्भों पर टिका है मंदिर

रामेश्वरम मंदिर जाने के लिए कंक्रीट के 145 खम्भों पर टिका करीब सौ साल पुराना पुल है। रामेश्वरम जाने वाले लोग इस पुल से होकर गुज़रते हैं। समुद्र के बीच से निकलती ट्रेन का दृश्य बहुत ही रोमांचक होता है। इस पुल के अलावा सड़क मार्ग से जाने के लिए एक और पुल भी बनाया गया है। यहां दर्शन के लिए देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु आते हैं। रामेश्वरम मंदिर का गलियारा विश्व का सबसे बड़ा गलियारा है।

मंदिर में देखने को मिलती है अलग-अलग शिल्पी

मंदिर लगभग 15 एकड़ के क्षेत्र में बना हुआ है। मंदिर में आपको कई प्रकाल के वास्तुशिल्पी देखने को मिलती है। मंदिर वैष्णववाद और शैववाद का संगम माना जाता है। मंदिर में कला के साथ-साथ कई प्रकार की अलग-अलग शिल्पी भी देखने को मिलेती है। इसका सबसे बड़ा कारण मंदिर की देखरेख व रक्षा कई राजाओं द्वारा किए जाने का है।

 

rameshwaram jyotirling

चमत्कारिक गुणों से भरा है यहां का पानी

रामनाथ स्वामी मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां स्थित अग्नि तीर्थम में जो भी श्रद्धालु स्नान करते है उनके सारे पाप धुल जाते हैं। इस तीर्थम से निकलने वाले पानी को चमत्कारिक गुणों से युक्त माना जाता है। लोगों का मानना है कि इस के पानी में डुबकी लगाने वाले लोगों के सभी दुख कष्ट दूर होते हैं और पापों से मुक्ति मिलती है। ये भी कहा जाता है कि इस पानी में नहाने के बाद सभी रोग−कष्ट दूर हो जाते हैं। इसके अलावा इस मंदिर के परिसर में 22 कुंड है जिसमें श्रद्धालु पूजा से पहले स्नान करते हैं।

रामायण काल में श्री राम ने की थी पूजा

रामायण युग में भगवान राम द्वारा शिवजी की पूजा अर्चना कर ही रामानाथस्वामी (शिवजी) के शिवलिंग को स्थापित किया गया था। रामायण के अनुसार एक साधु ने श्रीराम को कहा था कि शिवलिंग स्थापित करने से वहां रावण के वध के पाप से मुक्ति पा सकते हैं। इसीलिए श्रीराम ने भगवान हनुमानजी को कैलाश पर्वत पर एक शिवलिंग लाने के लिए भेजा लेकिन वह शिवलिंग लेकर समय पर वापस ना लौट सके। इसीलिए माता सीता ने मिट्टी की मदद से एक शिवलिंग तैयार किया जिसे रामलिंग कहा जाता है और हनुमान जी वापस लौटे तो उन्हें यह देखकर बहुत दुख लगा। उनके दुख को देखकर भगवान श्रीराम ने उस शिवलिंग का नाम वैश्वलिंगम रखा। इसी कारण रामनाथस्वामी मंदिर को वैष्णववाद और शैववाद दोनों का संगम कहा जाता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned