शनिदेव के इस धाम में साल में एक बार होता है चमत्कार, दर्शन करने बड़ी संख्या में आते हैं श्रद्धालु

न्याय के देवता शनिदेव को हिंदू देवी यमुना का भाई माना जाता है।

हमारे देश शनिदेव महाराज के कई मंदिर है। सभी मंदिरों की अलग-अलग मान्यताएं हैं। आज हम आपको शनिदेव के एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां साल में एक बार चमत्कार होता है। बताया जाता है कि यह मंदिर समुद्री तल से लगभग 7000 फुट की ऊंचाई पर स्थित है।


पौराणिक कथाओं के अनुसार, न्याय के देवता शनिदेव को हिंदू देवी यमुना का भाई माना जाता है। देवभूमि उत्तराखंड के खरसाली में शनिदेव का धाम स्थित है। यहां पर शनिदेव 12 महीने विराजमान रहते हैं। बताया जाता है कि यहां पर अपने कष्टों का दूर करने के लिए हर साल बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं और शनि देव का दर्शन करते हैं।


इतिहासकारों की माने तो इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने करवाया था। यह मंदिर पांच मंजिला है, लेकिन बाहर से देखने से पता नहीं चल पाता कि यह मंदिर पांच मंजिला है। बताया जाता है कि इस मंदिर के निर्माण में पत्थर और लकड़ी का उपयोग किया गया है।


बताया जाता है कि इस मंदिर में शनिदेव की कांस्य की मूर्ति विराजमान है। इस मंदिर में एक अखंड ज्योति मौजूद है। मान्यता है कि इस अखंड ज्योति के दर्शन मात्र से ही जीवन के सारे दुख दूर हो जाते हैं और शनि दोष से मुक्ति मिल जाती है।


बताया जाता है कि इस मंदिर में साल में एक बार चमत्कार होता है। स्थानीय लोगों के अनुसार, हर साल कार्तिक पूर्णिमा के दिन मंदिर के ऊपर रखे घड़े खुद बदल जाते हैं। बताया जाता है कि इस दिन जो भक्त शनि मंदिर में आता है, उसके सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned