इस कुंड में स्नान करने से खुल जाती है किस्मत, बनी रहती है सूर्यदेव की कृपा

सूर्यदेव की उपासना करना से ज्ञान, सुख, स्वास्थ्य, पद, सफलता, प्रसिद्धि की प्राप्ति होती है।

हिंदू धर्म में सूर्य देव को पंचदेवों में से प्रमुख देवता माना जाता है। रविवार के दिन सूर्यदेव की पूजा की जाती है। माना जाता है कि इस दिन सूर्यदेव की पूजा करना बहुत ही फलदायी होता है। कहा जाता है कि सूर्यदेव की उपासना करना से ज्ञान, सुख, स्वास्थ्य, पद, सफलता, प्रसिद्धि की प्राप्ति होती है।

lohargal_surya_mandir2.jpg

आज हम राजस्थान झुंझुनू जिले के लोहागर्ल में स्थित सूर्य मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं। यहां के स्थानीय लोगों का मानना है कि जो भी यहां भगवान सूर्य का दर्शन करता है, उनकी हर मनोकामनाएं पूरी हो जाती है और सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है।

lohargal_surya_mandir.jpg

इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि भगवान विष्णु की तपस्या करने के बाद सूर्यदेव को मिला था। यहां पर सूर्यदेव अपनी पत्नी के साथ विराजमान है। इस स्थान के बारे में मान्यता है कि महाभारत के युद्ध के पश्चात सभी पाण्डव अपने पापों से मुक्ति पाने के लिए यहां आए थे और यहां बने कुंड में स्नान किये थे।

lohargal_surya_mandir1.jpg

मान्यता है कि इस कुंड में स्नान करने के बाद सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। इसके अलावा इस कुंड में स्नान करने के बाद त्वाचा से संबंधित रोग भी ठीक हो जाती है। कहा तो ये भी जाता है कि यहां पर स्थित सूर्यदेव के दर्शन करने से भी पापों से मुक्ति मिल जाती है।

Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned