मंदिर की शिला पर लिखी इस भाषा में छिपा है राजा के खजाने का रहस्य

भारत समेत नार्वे, इंग्लैंड आदि कई देशों से भाषा पर शोध के लिए वैज्ञानिक आ चुके हैं, लेकिन उन्हें अब तक कोई कामयाबी नहीं मिली।

By: suchita mishra

Published: 10 Feb 2018, 02:00 PM IST

पीलीभीत। तकनीक ने बेशक दुनिया को तेजी से काफी आगे बढ़ा दिया हो, लेकिन आज भी पौराणिक काल के कई ऐसे सवाल हैं जिनका उत्तर देने में कोई भी तकनीक सक्षम नहीं है। उनमें से एक है पीलीभीत के बिलसण्डा में स्थित मंदिर में लगा शिलापट। हजारों साल पुराने इस शिलापट पर एक लेख लिखा है, लेकिन आज तक दुनिया का कोई भी शख्स इस पर लिखी भाषा व लिपि को नहीं पढ़ सका है। माना जाता है कि इस लेख में राजा वेणु के अकूत खजाने का राज छिपा है।

इसके अलावा जनपद के ही दियूरिया के जंगल में एक गांव है इलावांस। इलावांस में राजा की सात बेटियों में से एक इलावांस देवी का प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर के अंदर स्थित शिलालेख भी हजारों वर्ष पुराना है। इसकी भाषा इतनी जटिल है कि कोई भी इसे आज तक कोई इसे पढ़ नहीं सका। भारत समेत इग्लैंड, नार्वे आदि कई देशों के वैज्ञानिक इस भाषा पर शोध करने आ चुके हैं, लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। कहा जाता है कि ये भाषा भी राजा की संपत्ति के कई राज समेटे है।

इस बारे में स्थानीय निवासी राम किशोर का कहना है कि उनके दादा, परदादा ने इस मंदिर की सेवा की है। वे अक्सर बताया करते थे कि ये मंदिर राजा वेणु की सात लड़कियों का है। ये मंदिर बारा स्वामी भगवान विष्णु और होल्का देवी के मंदिर के रूप में प्रसिद्ध हैं। उन्होंने बताया कि दोनों मंदिरों में लगे शिलालेख बेहद पुराने हैं। इन पर लिखी भाषा को आज तक कोई नहीं पढ़ सका है। उन्होंने बताया कि बाहर के लोग इस शिला को अपने साथ ले जाना चाहते थे, ऐसा न हो इसलिए शिला को मंदिर में चुनवा दिया गया। देश के तमाम कोनों से लोग इसे पढ़ने आए लेकिन कामयाबी नहीं मिली। ये एक लिपि है जो कई भाषाओं में है। जो इसे पढ़ लेगा उसे राजा के खजाने के बारे में सब पता चल जाएगा। कुछ लोग इसे हुंबी भाषा बताते हैं।

इलाके में मंदिर की काफी है मान्यता
राम किशोर ने बताया कि इस मंदिर की इलाके में काफी मान्यता है। हर साल यहां विशाल मेले का आयोजन भी होता है। यदि पुरातत्व विभाग इसकी देखरेख पर ध्यान दे तो ये देश के प्रमुख धार्मिक स्थलों में शामिल हो सकता है।

 

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned