एडीआर रिपोर्ट: 5 साल में बीजेपी और कांग्रेस के 16 विधायकों ने हरियाना विधानसभा में नहीं उठाया सवाल

एडीआर रिपोर्ट: 5 साल में बीजेपी और कांग्रेस के 16 विधायकों ने हरियाना विधानसभा में नहीं उठाया सवाल

Dhirendra Kumar Mishra | Updated: 07 Oct 2019, 09:55:05 AM (IST) राजनीति

  • प्रश्न पूछने वाले टॉप—10 नेताओं में बीजेपी से एक नेता
  • विधेयक पास कराने के मामले में सरकार का प्रदर्शन अच्छा
  • किरण चौधरी ने पूछे सबसे ज्यादा सवाल

नई दिल्ली। हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने हैं। मतदान से 15 दिन पहले एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) और हरियाणा इलेक्शन वॉच (एचईडब्ल्यू) ने 13वीं विधानसभा के विधायकों के कामकाज के बारे में बड़ा खुलासा किया है। 16 विधायकों ने 13वीं विधानसभा के पूरे पांच साल के कार्यकाल के दौरान एक भी सवाल नहीं पूछे। शेष विधायकों ने सवाल पूछे।

बीजेपी ने उठाया कमजोर विपक्ष का लाभ

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के कार्यकाल के दौरान 174 विधेयकों में से 170 पास हुए। यानि 98 फीसदी से ज्यादा विधेयक पास कराने में मनोहर लाल खट्टर सरकार सफलता मिली। साफ है कि सदन में बहुमत होने और विपक्ष के बिखरे होने का लाभ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने पूरी तरह से उठाया।

किरण चौधरी ने पूछे सबसे ज्यादा सवाल

चुनाव वॉचडॉग्स (एडीआर और एचईडब्ल्यू) के मुताबिक कुल विधानसभा सदस्यों वाले सदन में से केवल 16 विधायकों ने कोई प्रश्न नहीं पूछा।

रिपोर्ट के मुताबिक यदि प्रश्न पूछा जाना विधायकों के प्रदर्शन का पैमाना माना जाए तो कांग्रेस की तोशाम निर्वाचन क्षेत्र की विधायक किरण चौधरी 225 प्रश्नों के साथ पहले स्थान पर रहीं। उनके बाद डबवाली विधानसभा क्षेत्र से इंडियन नेशनल लोकदल की नैना सिंह चौटाला का स्थान है।

टॉप—10 नेताओं में बीजेपी से केवल एक नेता

पांच साल के दौरान प्रश्न पूछे जाने को लेकर शीर्ष 10 नेताओं की बात की जाए तो सत्तारूढ़ बीजेपी की सिर्फ एक विधायक प्रेम लता का नाम शामिल है। लेकिन 15 विधायक ऐसे हैं जिन्होंने न ही राज्य के बारे में और न ही अपने निर्वाचन क्षेत्रों से संबंधित मुद्दों के बारे में एक भी सवाल पूछने की जहमत उठाई।

प्रश्न नहीं पूछने वालों में कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला और बीजेपी के कैप्टन अभिमन्यु के नाम भी शामिल हैं।

चौंकाने वाली बात
एडीआर रिपोर्ट तैयार करने वाली टीम के प्रमुख सेवानिवृत्त मेजर जनरल अनिल वर्मा ने कहा कि मुझे नहीं पता कि वे सवाल पूछने के लिए उत्सुक क्यों नहीं हैं। इस लिहाज से हरियाणा एक खुशहाल प्रदेश नहीं है। उन्होंने कहा कि यह स्थिति अच्छी नहीं है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned