विलय के एक दिन बाद ही तमिलनाड़ु में सियासी घमासान

एआईडीएमके के एक दिन विलय के बाद ही उठा पठक चालू हो गई है। 22 विधायकों ने राजभवन में तमिलनाडु के राज्यपाल विद्यासागर राव से मुलाकात की।

By: Ravi Gupta

Published: 22 Aug 2017, 03:47 PM IST

चेन्नई। एआईडीएमके के एक दिन विलय के बाद ही उठा पठक चालू हो गई है। दूसरे दिन ही टीटीवी दिनकरन का समर्थन करने वाले 22 विधायकों ने राजभवन में तमिलनाडु के राज्यपाल विद्यासागर राव से मुलाकात की और मुख्यमंत्री एडपद्दी पालनीस्वामी की सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया। डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन ने गर्वनर को फ्लोर टेस्ट के लिए बोला है। गर्वनर के पास गए 19 विधायकों में से 15 विधायकों को पुडुचेरी के दो होटल में भेज दिया गया। ऐसा कहा जा रहा है कि एआईडीएमके में परेशानी के चलते 10 और विधायक टीटीवी दिनाकरन जॉइन कर सकते हैं।

बता दें कि एआईएडीएमके के दोनों धड़ों के विलय के बाद, महासचिव शशिकला के भतीजे और पार्टी नेता टीटीवी दिनाकरन के समर्थक 19 विधायक राज्यपाल सी. विद्यासागर राव से मिलने राज भवन पहुंचे थे। बीमार चल रहे दिनाकरन ने इस पूरे मामले में अपनी चुप्पी नहीं तोड़ी है। सोमवार को दिनाकरन समर्थक दर्जन भर पार्टी विधायक जयललिता की समाधि भी गए थे। विलय के बाद पलानीस्वामी ने समर्थकों से कहा था कि हम जल्द ही अपना चुनाव चिन्ह वापस ले लेंगे। हमारा लक्ष्य सिर्फ अम्मा और एमजीआर के सपने को पूरा करना है। उन्होंने पन्नीरसेल्वम का धन्यवाद भी किया था। इस पर ओ. पन्नीरसेल्वम ने कहा कि था हमारी और हमारी पार्टी की सिर्फ एक ही मां है। हम एक परिवार हैं।

तमिलनाडु में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक के दोनों धड़े छह महीने बाद सोमवार को एक हुए थे। दोनों गुटों के बीच समझौता हुआ था कि पलानीस्वामी राज्य के मुख्यमंत्री बने रहेंगे। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम को उप मुख्यमंत्री बनेंगे। साथ ही पन्नीरसेल्वम अन्नाद्रमुक के राष्ट्रीय समन्वयक भी होंगे व पलानीस्वामी राज्य में यह भूमिका निभाएंगे। इसके साथ ही एमवी शशिकला को पार्टी के महासचिव पद से हटाने का फैसला भी लिया गया था। उपमुख्यमंत्री बनाए गए पन्नीरसेल्वम को वित्त और आवास समेत नौ मंत्रालय दिए गए थे। बगावत में पन्नीरसेल्वम का साथ देने वाले के पांडियाराजन को भी मंत्री बनाया गया था।

Ravi Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned