अमित शाह ने पासवान को दिया सम्मान रखने का भरोसा, शुक्रवार को नीतीश से हो सकती है मुलाकात

अमित शाह ने पासवान को दिया सम्मान रखने का भरोसा, शुक्रवार को नीतीश से हो सकती है मुलाकात

Kapil Tiwari | Updated: 21 Dec 2018, 08:24:42 AM (IST) राजनीति

नीतीश से मुलाकात को लेकर माना जा रहा है कि जेडीयू की सीटों में बीजेपी कटौती कर सकती है।

नई दिल्ली। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए के कुनबे में फूट पड़ गई है और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कुनबे को संवारने में लगे हुए हैं। हालांकि टीडीपी और आरएलएसपी जैसी दो सहयोगी पार्टियों ने एनडीए को अलविदा कह दिया है। इन दोनों के बाद एलजेपी के भी बगावती तेवरों से बीजेपी हाईकमान हिल गया है, जिसे ठीक करने में अमित शाह लगे हैं। गुरुवार को अमित शाह की मुलाकात केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान से हुई, जिसमें सीटों के बंटवारे पर बातचीत हुई। अब माना जा रहा है कि शुक्रवार को नीतीश कुमार और अमित शाह की मुलाकात हो सकती है। अगर ऐसा होता है तो संभव है कि बीजेपी बिहार में जेडीयू की कुछ सीटों में कटौती कर सकती है। हालांकि अभी ये सिर्फ अनुमान है।

अमित शाह ने एलजेपी को दिया है ये आश्वासन

गुरुवार को उपेंद्र कुशवाहा ने भी महागठबंधन का दामन थाम लिया, जिसके बाद चिराग पासवान और रामविलास पासवान से अमित शाह मिले। इस मीटिंग में अमित शाह ने दोनों को ये आश्वासन दिया है कि बीजेपी अपने सहयोगी दलों का सम्मान बरकरार रखेगी। कुशवाहा के एनडीए छोड़ने के बाद से ही एलजेपी के भी बगावती तेवर सामने आ गए थे।

मुलाकात को लेकर सामने नहीं आई है अभी कोई जानकारी

शाह से मुलाकात से पहले बीजेपी महासचिव और बिहार के प्रभारी भूपेन्द्र यादव गुरुवार शाम को संसद भवन से सीधे चिराग पासवान से मुलाकात करने उनके घर पहुंच गए। कुछ देर रुकने के बाद यादव चिराग और रामविलास पासवान को लेकर बीजेपी अध्यक्ष शाह के पास ले गए, जहां इन नेताओं की लगभग एक घंटे तक बैठक हुई। हालांकि बैठक से संबंधित कोई जानकारी नहीं दी गई है, लेकिन माना जा रहा है कि शाह ने उन्हें आश्वस्त किया कि बीजेपी अपने सहयोगी दलों का सम्मान करती है और उनकी चिंताओं को भी दूर करेगी। बीजेपी की ओर से यह भी कहा गया है कि सीटों को लेकर भी जल्द ही बातचीत करके औपचारिक ऐलान किया जाएगा।

क्या है एलजेपी की मांग?

आपको बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा के बागी होने के बाद एलजेपी ने भी सीट बंटवारे को लेकर जल्द फैसला करने की मांग की है। एलजेपी ने बीजेपी से बिहार में सात लोकसभा सीटों की मांग की है। 2014 में एलजेपी ने इतनी ही सीटों पर चुनाव लड़ा था। हालांकि मीडिया में ऐसी खबरें आई थी कि अमित शाह और नीतीश के बीच आधी-आधी सीटों पर चुनाव लड़ने की सहमति बनी थी, जिसके बाद से ही बिहार में ये सियासी घमासान खड़ा हो गया है।

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned