बिहार उपचुनाव: राजद और कांग्रेस में बनी सहमति, भभुआ विधानसभा सीट पर कांग्रेस लड़ेगी चुनाव

prashant jha

Publish: Feb, 15 2018 10:58:26 PM (IST)

Political
बिहार उपचुनाव: राजद और कांग्रेस में बनी सहमति, भभुआ विधानसभा सीट पर कांग्रेस लड़ेगी चुनाव

राष्ट्रीय जनता दल अररिया लोकसभा और जहानाबाद विधानसभा सीटों के लिए उम्मीदवार उतारेगा। जबकि कांग्रेस भभुआ विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेगी।

पटना: लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों में उम्मीदवारों को उतारने को लेकर कांग्रेस राजद में चल रहे मनमुटाव पर विराम लग गया है। गुरुवार को राजद कांग्रेस ने बिहार में आगामी उपचुनावों को संयुक्त रूप से लड़ने के लिए एक फार्मूले तैयार किया है। राजद नेता तेजस्वी यादव और प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल अररिया लोकसभा और जहानाबाद विधानसभा सीटों के लिए उम्मीदवार उतारेगा। जबकि कांग्रेस भभुआ विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेगी। 11 मार्च को उपचुनाव होंगे। नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 20 फरवरी है।

अटकलों पर विराम
गौरतलब है कि इससे पहले अटकले थी कि राजद तीनों सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने की तैयारी में है। लेकिन गुरुवार को दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं ने एक नया फॉर्मूला अपनाकर अलग-अलग चुनाव लड़ने का फैसला किया। बुधवार को बिहार कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह के मुताबिक ‘मैं पार्टी आलाकमान से आग्रह करना चाहूंगा कि भभुआ से अपना उम्मीदवार उतारने का फैसला करें।’वहीं राजद के महासचिव भोला यादव ने कहा कि भभुआ में राजद की मजबूत पैठ है और इस सीट पर राजद या उसके सहयोगियों ने कई बार जीत हासिल की है।

11 मार्च को उपचुनाव
बता दें कि 11 मार्च को बिहार के अररिया में लोकसभा सीट और जहानाबाद एवं भभुआ विधानसभा सीटों पर उपचुनाव है। अररिया लोकसभा में और जहानाबाद विधानसभा में राजद ने जीत हासिल की थी। वहीं भभुआ में भाजपा के उम्मीदवार जीते थे।

उपचुनाव में जदयू के प्रत्याशी नहीं

गौरतलब है कि जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) एक लोकसभा और दो विधानसभा उपचुनाव को लेकर अपना प्रत्याशी नहीं उतराने का फैसला की है। हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी पार्टी ने अभी तय नहीं किया है कि वह प्रचार करेंगे या नहीं।

नीतीश कुमार ने कहा कि ये जेडीयू की कोर कमेटी का फैसला है कि लोकसभा और विधानसभा के उपचुनाव में उम्मीदवार नहीं खड़ा किया जाए। बता दें कि पिछले चुनाव में इनमें से किसी भी सीट पर नीतीश के उम्मीदवार नहीं खड़े हुए थे। नीतीश कुमार के अनुसार ये पार्टी का नीतिगत फैसला है।

1
Ad Block is Banned