Bihar Election: टिकट कटते ही BJP के नेता ने पीएम मोदी को लिखा खत, लिख दी इतनी बड़ी बात

  • Bihar Election: BJP ने पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना ( kishore kumar munna ) का मुन्ना का टिकट काट
  • किशोर कुमार मुन्ना ने कहा- जाति के आधार पर मेरा टिकट कटा, PM को लिखा खत

By: Kaushlendra Pathak

Published: 16 Oct 2020, 02:54 PM IST

नई दिल्ली। बिहार ( Bihar Election ) में इन दिनों सियासी माहौल गर्म है। लगभग सभी पार्टियों ने उम्मीदवारों की सूची जारी है। चुनाव के लिए ताबड़तोड़ प्रचार जारी है। वहीं, इस बार कई नेताओं का टिकट कटा है। जबकि, कई नए चेहरों को मौका दिया गया है। टिकट काटने के मामले में बीजेपी (BJP) और जेडीयू (JDU), आरजेडी (RJD) सबसे आगे है। इसी कड़ी में बीजेपी ने पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना ( kishore kumar munna ) को टिकट काट दिया है। टिकट कटने पर बीजेपी ने सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ( PM Narendra Modi ) और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ( JP Nadda ) के साथ प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल को पत्र लिखा है। पत्र लिखकर मुन्ना ने कड़ी नाराजगी जाहिर की है।

पढ़ें- Bihar Election: NDA के थीम सॉन्ग पर कांग्रेस का गाना लॉन्च, नीतीश सरकार से पूछा- 'का किए हो'?

BJP ने एक और पूर्व विधायक का काटा टिकट

बताया जा रहा है कि सहरसा विधानसभा सीट से किशोर कुमार मुन्ना प्रबल दावेदार थे। लेकिन, पार्टी ने उनकी जगह आलोक रंजन झा को टिकट दे दिया है। जिससे किशोर कुमार मुन्ना खासे नाराज हो गए और प्रधानमंत्री तक को पत्र लिख दिया है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि मैं छात्र जीवन से पार्टी रहा, दिन-रात मेहनत की। लेकिन, मेरे जैसे समर्पित कार्यकर्ता को अपमानित किया गया। उन्होंने टिकट बंटवारे को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि जो उम्मीदवार पिछली बार सहरसा सीट से चालीस हजार वोटों से हारा था, उसे फिर टिकट दे दिया गया है। किशोर कुमार ने कहा कि मैंने दीन दयाल उपाध्याय की प्रतिमा को प्रणाम कर पार्टी से नाता तोड़ लिया है। इतना ही नहीं कहा कि मेरा टिकट जाति का हवाला देकर काटा गया है।

पढ़ें- Bihar Election चुनावी सरगर्मी के बीच BJP की बड़ी कार्रवाई, 3 पूर्व विधायकों को पार्टी से निकाला

Bihar Election: BJP Leader kishore kumar munna Write a Leeter to pm

पार्टी पर लगाया गंभीर आरोप

किशोर कुमार ने कहा कि पिछले चुनाव में मैं अपने गृहक्षेत्र से चुनाव लड़ना चाहता था। लेकिन, अंत में मुझे सुपौल भेज दिया गया। नामांकन से एक दिन पहले मेरे नाम की घोषणा की गई। इसके बावजूद मैंने अच्छा प्रदर्शन किया और पार्टी को सम्मानजक स्थिति में लेकर आया। उन्होंने कहा कि पार्टी ने मुझे हमेशा मुझे कहा कि चुनाव लड़ाएंगे। लेकिन, जब समय आया तो मुझे साइड लाइन कर दिया गया है।

Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned