जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए भाजपा नेता करेंगे मेरठ से दिल्ली तक पदयात्रा

जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए भाजपा नेता करेंगे मेरठ से दिल्ली तक पदयात्रा
जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए भाजपा नेता करेंगे मेरठ से दिल्ली तक पदयात्रा

Dheeraj Kanojia | Updated: 11 Oct 2019, 04:11:35 PM (IST) राजनीति

13 अक्टूबर को दिल्ली में रैली की तैयारी

नई दिल्ली। जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग के लिए शुक्रवार को मेरठ से दिल्ली की यात्रा शुरू होगी जिसमें बड़ी संख्या में ट्रैक्टरों के साथ किसान भी शामिल होंगे। जनसंख्या विस्फोट से होने वाली 21 समस्याओं को प्रदर्शित करने के लिए 21 रथ भी साथ चलेंगे।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, डॉक्टर संजीव बाल्यान और जनरल वीके सिंह, सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, डॉक्टर सत्यपाल सिंह और डॉक्टर महेश शर्मा तथा दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी सहित एक दर्जन से अधिक सांसद और विधायक इस यात्रा में शामिल होंगे।

यात्रा संयोजक भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने बताया कि 11 अक्टूबर को 11 बजे मेरठ से हजारों लोग पैदल दिल्ली के लिए कूच करेंगे। मोदीनगर में रात्रि विश्राम के बाद 12 अक्टूबर को सुबह यात्रा फिर शुरू होगी और रात्रि विश्राम साहिबाबाद में होगा। 13 तारीख को सुबह 9 बजे यात्रा फिर शुरू होगी और 12 बजे जंतर मंतर पहुंचेगी।

उपाध्याय ने कहा कि अंतराष्ट्रीय रैंकिंग में भारत की दयनीय स्थिति का मुख्य कारण भी जनसख्या विस्फोट है। ग्लोबल हंगर इंडेक्स में हम 113वें स्थान पर, साक्षरता दर में 145वें स्थान पर, वल्र्ड हैपिनेस इंडेक्स में 133वें स्थान पर, ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स में 122वें स्थान पर, सोशल प्रोग्रेस इंडेक्स में 53वें स्थान पर, यूथ डेवलपमेंट इंडेक्स में 134वें स्थान पर, होमलेस इंडेक्स में 8वें स्थान पर, ***** असमानता में 76वें स्थान पर, न्यूनतम वेतन में 64वें स्थान पर, रोजगार दर में 42वें स्थान परए क्वालिटी ऑफ लाइफ इंडेक्स में 43वें स्थान पर, फाइनेंसियल डेवलपमेंट इंडेक्स में 51वें स्थान पर, करप्शन परसेप्शन इंडेक्स में 78वें स्थान पर, रूल ऑफ लॉ इंडेक्स में 66वें स्थान पर, एनवायरनमेंट परफॉरमेंस इंडेक्स में 177वें स्थान पर तथा पर कैपिटा जीडीपी में 139वें स्थान पर हैं लेकिन जमीन से पानी निकालने के मामले में हम दुनिया में पहले स्थान पर हैं, जबकि हमारे पास पीने योग्य पानी मात्र 4 प्रतिशत है। प्रत्येक वर्ष हम लोग 2 दिसंबर को राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाते हैं और प्रदूषण नियंत्रण को लेकर पिछले 5 साल में बहुत से प्रयास भी किये गये हैं लेकिन जनसंख्या विस्फोट के कारण वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, मृदा प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण बढ़ता जा रहा है और इसका मूल कारण भी जनसख्या विस्फोट है इसलिए चीन की तर्ज पर एक कठोर जनसख्या नियंत्रण कानून के बिना स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत अभियान का 100 फीसदी सफल होना मुश्किल है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned