बीजेपी सांसद मौत मामले में नया मोड़, कॉल लॉग खंगालने पर सामने आया ये सच

बीजेपी सांसद राम स्वरूप मौत मामले में कॉल लॉग से हुआ बड़ा खुलासा

By: धीरज शर्मा

Updated: 19 Mar 2021, 01:51 PM IST

नई दिल्ली। नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के मंडी लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद की मौत का के मामले में नया मोड़ सामने आया है। नई दिल्ली जिले की नार्थ एवेन्यू थाना पुलिस ने शुरूआती जांच के बाद दिवंगत बीजेपी सांसद की मौत को खुदकुशी मान रही है।
यही वजह है कि नार्थ एवेन्यू थाना पुलिस ने सीआरपीसी की धारा 174 के तहत स्वभावित मौत (खुदकुशी) की कार्रवाई की है। हालांकि जांच के लिए दिल्ली पुलिस ने सांसद रामस्वरूप शर्मा के दोनों मोबाइल जब्त कर लिए हैं।
इन मोबाइल फोन की कॉल लॉग को खंगाला जा रहा है। शुरुआत जांच में ये बात सामने आई कि मौत से पहले उनकी किस-किस से बात हुई थी।

यह भी पढ़ेंः गुजरात की रुपाणी सरकार का Coronavirus नियमों के उल्लंघन को लेकर अजीब फैसला, जानिए कैसे बनाया दोहरा नियम

नई दिल्ली जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सांसद के दोनों मोबाइल की कॉल डिटेल मंगवाई गई हैं। इसके जरिए ये भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि सांसद के पास किन-किन लोगों के फोन आए।

दरअसल मौत का मामला चूंकी राजनीतिक भी यही वजह है कि मोबाइल की कॉल डिटेल निकलवाने के लिए नार्थ एवेन्यू थाना पुलिस ने पत्र लिखकर दिल्ली पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव से अनुमति मांगी है।

ये बात आई सामने
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सांसद के दोनों मोबाइलों के कॉल लॉग को देखने के बाद ये साफ हुआ है कि वे फोन पर ज्यादा बात नहीं करते थे।

होम के नाम से सेव पत्नी का नंबर
कॉल लॉग के मुताबिक सांसद ने कई बार तो एक दिन में सिर्फ दो ही फोन किए हैं। उन्होंने आखिरी बार पत्नी चंपा शर्मा से बात की थी। उनके मोबाइल में पत्नी का नंबर होम के नाम से सेव है।

कार्यकर्ता ने लगाया फोन, की ये बात
पुलिस को मिली कॉल लॉग में ये तो साफ हो गया है कि मौत से पहले उन्हें पत्नी का फोन आया था। इसके अलावा किसी भी सांसद या नेता उन्हें फोन नहीं किया था।

लेकिन मंडी से उन्हें जरूर एक फोन आया था। ये किसी पार्टी कार्यकर्ता का था। फोन पर इस कार्यकर्ता ने मंदिर निर्माण से जुड़ी कोई बात की थी। अब पुलिस इस कार्यकर्ता से भी विस्तार में बातचीत कर सकती है।

वॉट्सएप और मैसेज पर भी कम बात
कॉल लॉग की जानकारी हासिल करने के साथ-साथ पुलिस का फोकस सांसद के मोबाइल में मौजूद वॉट्सएप चैट और मैसेज को भी खंगाला है, ताकि कोई भी तार जुड़ रहा हो तो उससे जानकारी हासिल की जा सके।
पुलिस ये भी जानने की कोशिश कर रही है कि किसी ने उनके वॉट्सएप चैट को डिलीट तो नहीं किया।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद विसरा
दिल्ली पुलिस अधिकारियों के मुताबिक पुलिस ने सांसद रामस्वरूप शर्मा के विसरा को सुरक्षित रखवा दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही उनके विसरा को जांच के लिए भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ेँः Assam Assembly Elections 2021: छात्र से राहुल ने पूछा कभी सीएम को ऐसे बात करते हुए देखा, मिला ये दिलचस्प जवाब

पोस्टमॉर्टम में भी खुदकुशी कारण
आरएमएल अस्पताल में तीन डॉक्टरों के मेडिकल बोर्ड ने उनके शव का पोस्टमार्टम किया है। मेडिकल बोर्ड के डॉक्टरों ने भी पोस्टमार्टम के बाद अनौपचारिक रूप से खुदकुशी की ओर इशारा किया है।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned