कनार्टक की इन 8 सीटों पर भाजपा लगा लेती जोर तो बहुमत का निकाल लेती तोड़

कुछ सीटें ऐसी हैं जो भाजपा के लिए अनलकी साबित हुई हैं। ऐसा इसएिल कि इन सीटों भाजपा प्रत्‍याशियों को मामूली अंतर से हार का सामना करना पड़ा है।

By: Dhirendra

Published: 16 May 2018, 01:55 PM IST

नई दिल्‍ली। कर्नाटक में भाजपा को जीत अच्‍छी मिली। इस बात की तारीफ खुद पीएम मोदी ने की है। उन्‍होंने इस जीत के लिए पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह और कार्यकर्ताओं को श्रेय भी दिया। लेकिन भाजपा कुछ और सीटों पर चुनाव के दौरान जोर लगा लेती तो आज उसे बहुमत के मैजिक फीगर के लिए इतना जोड़-तोड़ नहीं करना पड़ता। आपको बता दें कि 222 सीटों पर हुए उपचुनाव में 104 पर भाजपा को जीत मिली है। यानी उसे बहुमत के मैजिक फीगर से आठ सीटें कम मिलीं। इसका लाभ उठाकर जेडीएस और कांग्रेस ने भाजपा की हसरतों पर पानी फेरने का काम किया है। ये बात अलग है कि इस प्रयास में जेडीएस और कांग्रेस को सफलता न मिले। ऐसे में अगर भाजपा इन आठ सीटों पर जोर लगा लेती तो उसे आज बहुमत का आंकड़ा छूने के लिए इतनी मशक्‍कत नहीं करनी पड़ती। इन आठ सीटों पर भाजपा के प्रत्‍याशी कांग्रेस प्रत्‍याशियों से बहुत कम सीटों से हारे हैं।

सियासी तस्‍वीर कुछ और होती
राजनीतिक विश्‍लेषकों का कहना है कि इन सीटों पर भाजपा के पक्ष में थोड़ा और मतदान और हो जाता है तो कर्नाटक की सियासी तस्वीर कुछ और ही होती। क्‍योंकि विधानसभा जैसे बड़े चुनाव में हजार या दो हजार मतों के अंदर की जीत-हार को काफी कम माना जाता है और इसे उम्मीदवार की किस्मत से भी जोड़कर देखा जाता है। आप इन सीटों पर चुनाव लड़ने वाले भाजपा के प्रत्‍याशियों को बदकिश्‍मत भी कह सकते हैं।

1. बदामी सीट
कर्नाटक के निवर्तमान सीएम और कांग्रेस के नेता सिद्धारमैया ने यहां जीत दर्ज की है। उन्हें कुल 67,599 मिले हैं, जबकि उनके प्रतिद्वंदी बी श्रीरामुलू को 65,903 वोट प्राप्त हुए हैं। इस हिसाब से सिद्धारमैया को महज 1696 वोटों के मामूली अंतर से जीत मिली है।

2. विजय नगर सीट
इस सीट पर भाजपा उम्‍मीदवार एच रवींद्र को 70,578 वोट मिले हैं, जबकि कांग्रेस प्रत्याशी एम कृष्णप्पा को 73,353 मत प्राप्त हुए। इस लिहाज से कांग्रेस उम्मीदवार ने अपने भाजपा प्रतिद्वंदी को 2,775 वोटों से मात दी।

3. मास्की सीट

रायचूड़ जिले की इस सीट पर कांग्रेस के टिकट से प्रतापगौड़ा पाटिल ने चुनाव लड़ा और उन्हें 60,387 मत प्राप्त हुए। जबकि उनके प्रतिद्वंदी भाजपा प्रत्याशी बसावानागौड़ा तुरविहाल को 60,174 वोट मिले। भाजपा ये सीट सिर्फ 213 वोटों से हारी।

4. गदग सीट
गदग सीट पर कांग्रेस कैंडिडेट को कुल 77,699 वोट मिले हैं, वहीं भाजपा प्रत्याशी 75,831 वोट हासिल करने में कामयाब हुए हैं। इस हिसाब से कांग्रेस ने भाजपा को यह सीट 1,868 वोटों से हरा दी है।

5. कुंडगोल सीट
धारवाड़ जिले की यह सीट भी भाजपा के लिए अनलकी कहा जा सकता है। यहां से भाजपा उम्मीदवार को 64,237 वोट मिले हैं, जबकि कांग्रेस प्रत्याशी को 64,871 मत मिले। इस सीट पर जीत का अंतर केवल 634 वोटों की है।

6. हिरेकेरुर सीट
यहां पर भी कांटे की टक्कर देखने को मिली है। यहां से कांग्रेस उम्मीदवार बसावानागौड़ा पाटिल को 72,461 मत प्राप्त हुए हैं, जबकि भाजपा प्रत्याशी उजनेश्वरा बानाकर को 71,906 वोट मिले हैं। यानी इस सीट पर जीत का अंतर महज 555 रहा है।

7.येल्लापुर सीट
कांग्रेस के अराबैल हेब्बार शिवराम ने भाजपा के अंदालागी पाटिल को 1483 मतों से हराया है। यहां से कांग्रेस उम्मीदवार को 66,290 और भाजपा उम्मीदवार को 64,807 वोट मिले हैं।

8. श्रींगेरी सीट
यह सीट भी भाजपा के खाते में आ सकती थी। लेकिन कांग्रेस ने यहां परचम लहराया। कांग्रेस के टीडी राजेगौड़ा ने भाजपा के डीएन जीवाराज को 1,989 मतों से शिकस्त देने में सफलता हासिल की है।

 

BJP
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned