scriptChaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary in Meerut | Chaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary : वो किसान नेता जिसके तेवर से कांपती थी हुकूमत | Patrika News

Chaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary : वो किसान नेता जिसके तेवर से कांपती थी हुकूमत

Chaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary कभी उनकी एक आवाज पर प्रदेश हुकूमत की बोलती बंद हो जाती थी। केंद्र सरकार को अपने धरने से हिला देने वाले किसानों के मसीहा चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत आज इस दुनिया में नहीं हैं। लेकिन किसान आज भी उनका नेतृत्व याद करता है। मेरठ कमिश्नरी का वो धरना भला कौन भूल सकता है। जिसमें प्रदेश सरकार पूरी तरह से हिल गई थी।

मेरठ

Published: May 15, 2022 02:17:59 pm

Chaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary सन 1990 का वो दौर जिसमें देश की राजनीति करवट ले रही थी। इसी दौरान किसान राजनीति धारदार होती जा रही थी। किसान राजनीति की कमान चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के हाथ में थी। वहीं महेंद्र सिंह टिकैत जो किसान राजनीति के चौधरी माने जाते थे। उनकी चौखट पर 90 के दशक के बाद जो भी सरकारें केंद्र या प्रदेश में आई मत्था टेकने सिसौली जरूर पहुंचीं। करमूखेड़ी बिजली घर से शुरू हुए एक छोटे से आंदोलन ने चौधरी महेंद सिंह टिकैत को किसानों का ऐसा मसीहा बना दिया। जिसने अपनी लाठी और हुक्के के बल पर सरकारों को हिलाकर रख दिया। 90 के दशक में केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी। प्रधानमंत्री थे पीवी नरसिम्हा राव,हर्षद मेहता कांड की गूंज पूरे देश में थी। देश में पहली बार शेयर बाजार में पांच हजार करोड़ रुपये का घोटाला हुआ था। किसानों की समस्याओं को लेकर बाबा टिकैत प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव से मिलने दिल्ली पहुंचे। प्रधानमंत्री से मिलते ही बाबा महेंद्र सिंह टिकैत ने उनसे पूछ ही लिया कि क्या आपको एक करोड़ रुपया मिला है? कोई प्रधानमंत्री से ऐसा सवाल कैसे पूछ सकता है। प्रधानमंत्री राव साहब ने चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत से कहा,'चौधरी साहब आप ऐसा सोच रहे हैं?
Chaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary : वो किसान नेता जिसके तेवर से कांपती थी हुकूमत
Chaudhary Mahendra Singh Tikait death anniversary : वो किसान नेता जिसके तेवर से कांपती थी हुकूमत
चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत प्रधानमंत्री से मुलायम सिंह सरकार द्वारा लखनऊ में किसानों पर ज्यादती के मामले में मिलने गए थे। उन्होंने कहा कि हर्षद मेहता पांच हजार करोड़ का घपला करे हुए है। जिसमें कई मंत्री शामिल हैं। सरकार उनसे वसूली नहीं कर पाई। लेकिन किसानों को दो सौ रुपए वसूली के लिए जेल भेज रही है। कुछ ऐसा ही अंदाज था महेंद्र सिंह टिकैत का देश भर में।
यह भी पढ़े : 31 मई को ठहर सकते हैं ट्रेनों के पहिए, स्टेशन मास्टर जाएंगे अवकाश पर

किसान राजनीति के चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत सबसे बड़े चौधरी थे। आजादी के पहले कई ऐसे किसान आंदोलन हुए। जिनमें देश के दिग्गज नेताओं के साथ ही महात्मा गांधी तक शामिल हुए। आजादी मिली तो देश भर में हर राज्य में किसान हितों के लिए किसान संगठन बने। इन संगठनों में किसानों के कई बड़े नेता बने। लेकिन समय बदला तो नेता भी बदलते चले गए। लेकिन चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत उन किसान नेताओं से अलहदा ही रहे।
यह भी पढ़े : Meerut Weather Update Today : आसमान से बरस रही आग, मेरठ और आसपास पारा @ 42 के पार

यहीं कारण है कि चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत ने सबसे बड़े किसान नेता के तौर पर देश के किसानों के बीच अपनी जगह बनाई। ये वो नेता थे जिनके दिल में जो आता था कह दिया करते थे। उनको इससे मतलब नहीं था किसी को क्या फर्क पड़ता है। 1988 में मेरठ कमिश्नरी धरने ने प्रदेश से लेकर देश की केंद्र सरकार को किसानों के सामने झुकने के लिए मजबूर कर दिया था। आज किसान नेता इस दुनिया में नहीं हैै लेकिन उनकी कमी आज भी किसानों को खल रही है। किसान अपने को नेतृत्वविहीन मान रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर, आज शाम 5 बजे होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: 30 जून को फ्लोर टेस्ट के लिए मुंबई वापस पहुंचेगा शिंदे गुट, आज किए कामाख्या देवी के दर्शनMumbai News Live Updates: फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर, आज ही होगी सुनवाईनवीन जिंदल को भी कन्हैया लाल की तरह जान से मारने की मिली धमकी, दिल्ली पुलिस से की शिकायतउदयपुर हत्याकांड को लेकर बोले मुख्यमंत्री: कहा- 'हर पहलू को ध्यान में रखकर होगी जांच, कहीं कोई अंतरराष्ट्रीय लिंक तो नहीं'Udaipur Murder Case: राजस्थान में एक माह तक धारा 144, पूरे उदयपुर में कर्फ्यू, जानिए अब तक की 10 बड़ी बातेंMohammed Zubair’s arrest: 'पत्रकारों को अभिव्यक्ति के लिए जेल भेजना गलत', ज़ुबैर की गिरफ्तारी पर बोले UN के प्रवक्ता1 जुलाई से बैन: अमूल, मदर डेयरी को नहीं मिली राहत, आपके घर से भी गायब होंगे ये समान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.