येदियुरप्पा के लोन माफी की घोषणा में इस वजह से लग गया ब्रेक

Shweta Singh

Publish: May, 18 2018 01:32:07 PM (IST)

Political
येदियुरप्पा के लोन माफी की घोषणा में इस वजह से लग गया ब्रेक

जल्दबाजी में कुर्सी संभालने के बाद येदियुरप्पा ने एक बड़ा ऐलान भी कर दिया था। लेकिन अब मामले में कुछ ऐसा मोड़ आया है कि उनका ये सपना टूट गया।

बेंगलुरु। कर्नाटक में चुनाव के नतीजों के बाद की स्थिति ने ड्रामे का रूप ले लिया है। विधायकों की जोड़-तोड़, गठबंधन की राजनीति के बीच शपथ ग्रहण समारोह में बिना किसी मंत्री के बीएस येदियुरप्पा अकेले ही प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। जल्दबाजी में कुर्सी संभालने के बाद येदियुरप्पा ने एक बड़ा ऐलान भी कर दिया था। लेकिन अब मामले में कुछ ऐसा मोड़ आया है कि उनका ये सपना टूट गया।

इस संबंध में अधिकारियों का सुझाव

दरअसल येदियुरप्पा ने सीएम बनते ही सबसे पहले किसानों के लोन की माफी का ऐलान किया था। लेकिन जब इसके लिए उन्होंने संबंधित विभाग से चर्चा की तो वित्त विभाग के बड़े अधिकारियों सहित मुख्य सचिव ने उनसे कुछ दिन रूकने का सुझाव दिया।

बड़ी खबर: मुख्यमंत्री बनते ही येदियुरप्पा ने कर दिया किसानों की कर्जमाफी का ऐलान

शपथ ग्रहण के पहले ही दिन से ही एक्शन मोड में हैं येदियुरप्पा

बता दें कि गुरुवार को बीएस येदियुरप्पा ने तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इसके साथ ही येदियुरप्पा कर्नाटक के 24वें मुख्यमंत्री बन गए हैं। हालांकि अभी येदियुरप्पा सरकार को 21 मई तक विधानसभा में अपना बहुमत साबित करना है। शपथ ग्रहण के पहले ही दिन वह एक्शन मोड में दिखाई दिए। इसलिए शपथ के बाद जब उन्होंने लोन माफी का ऐलान किया, इसके बाद उन्होंने मुख्य सचिव रत्ना प्रभा और कुछ करीबी अधिकारियों के साथ इसके लिए बैठक भी की। जिसमें उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जिन किसानों के बैंक से एक लाख तक का लोन लिया है उनके लोन माफ कर दिए जाएं। हालांकि मीटिंग के बाद अधिकारियों ने जानकारी दी कि उन्होंने मुख्यमंत्री से किसानों के लोन माफी के विषय में कुछ दिन की मोहलत मांगी है।

इस कारण चाहिए समय

समय लेने का कारण बताते हुए वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि उन्हें तकनीकी वित्तीय मामलों को समझने के लिए समय चाहिए। इसलिए किसानों के लोन माफ करने की कार्रवाई के लिए भी कुछ समय की मोहलत चाहिए।

सिद्धारमैया सरकार ने भी किया था ऐलान

गौरतलब है कि सिद्धारमैया सरकार ने भी इससे पहले किसानों के लोन माफ करने का ऐलान किया था। हालांकि सिद्धारमैया के 50,000 तक के लोन माफी की घोषणा के बाद किसानों के कर्ज को-ऑपरेटिव बैंक से तो माफ हो गए लेकिन राष्ट्रीय बैंकों से इसके लिए काफी कार्रवाइयों से गुजरना पड़ेगा।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned