नोटबंदी पर विपक्ष का हमला जारी, अब सीएम नायडू ने उठाए सवाल- 2000 रुपए के नोट की जरूरत क्या थी ?

नोटबंदी पर विपक्ष का हमला जारी, अब सीएम नायडू ने उठाए सवाल- 2000 रुपए के नोट की जरूरत क्या थी ?

Prashant Kumar Jha | Publish: Sep, 03 2018 08:52:06 PM (IST) राजनीति

गौरतलब है कि इससे पहले 30 अगस्त को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी को सबसे बड़ा घोटाला बताया था।

हैदराबाद: नोटबंदी पर भारतीय रिजर्व बैंक की ताजा रिपोर्ट आने के बाद बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा। विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर हमला बोल रहा है। ताजा हमला आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने मोदी सरकार पर बोला है। सीएम नायडू ने सवाल खड़े करते हुए पूछा कि आखिरी 2000 रुपए के नोट की जरूरत क्या थी। बड़े नोटों को तत्काल रूप से बंद कर देने चाहिए। नायडू ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि केंद्र सरकार नोटबंदी को सही तरीके से लागू करने में विफल रही ।

शशि थरूर ने बोला हमला

नोटबंदी को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर ने मोदी सरकार पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि 99.3 फीसदी पैसे बैंकिंग सिस्टम में वापस आ ही गया तो फिर इसे लागू करने का फैसला क्यों लिया गया। थरूर ने कहा कि नोटबंदी के दौरान लोगों को मुसीबतों में डालने की क्या जरूरत थी। इस दौरान कई लोगों की जान चली गईं। केंद्र सरकार को इससे क्या फायदा मिला। क्योंकि सरकार के पास इसका कोई जवाब नहीं है।

 

राहुल ने नोटबंदी को बताया बड़ा घोटाल

गौरतलब है कि इससे पहले 30 अगस्त को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी को सबसे बड़ा घोटाला बताया था। राहुल ने नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा था पीएम मोदी ने कहा था कि नोटबंदी से कालाधान खत्म हो जाएगा। लेकिन पूरा पैसा वापस आ गया । अब पीएम जवाब दें नोटबंदी का फैसला क्यों किया। देश की जनता पर चोट क्यों पहुंचाया। पीएम मोदी ने देश की जनता का पैसा 15-20 बड़े कारोबारियों को दे दिया। राहुल ने कहा कि नोटबंदी के दौरान 700 करोड़ रुपए बदले गए। नोटबंदी से छोटे और मझोले कारोबारियों को खत्म किए गए। मोदी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करके रख दी।

सरकार के ही अधिकारी ने उठाए सवाल

वहीं प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार परिषद की सदस्य ने भी रविवार को नोटबंदी की प्रक्रिया लागू करने पर सवाल खड़े किए। शमिका रवि ने नोटबंदी की प्रक्रिया को लागू करने पर सवाल उठाया। एक समाचार एजेंसी को दिए इंटरव्यू में शमिका ने कहा कि, नोटबंदी को लागू करने का तरीका बेशक सवाल उठाने लायक है।

आरबीआई की ताजा रिपोर्ट

भारतीय रिजर्व बैंक के ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी के बाद 99.3 फीसदी पैसे सिस्टम में लौट आए । यानी 15.41 लाख करोड़ रुपए के 1,000 और 500 रुपये के पुराने नोट चलन में थे, जिसमें से 15.31 लाख करोड़ रुपये बैंकिंग प्रणाली में वापस आ गए।

Ad Block is Banned